• 10/20/2019
Latest News

मुख्य खबर

Share this news on

अथर्व फाउंडेशन ने पंजाब के शहीदों के परिवारों को सम्मानित किया

Dr.Kumar

/

2/1/2019 9:21:48 PM

चंडीगढ़, 1 फरवरी। पंजाब की धरती से दो बहादुर भारतीय सेना के शहीदों के परिवारों को वीरवार की रात एनएससीआई-वर्ली, मुंबई में आयोजित एक वार्षिक देशभक्ति कार्यक्रम ‘वन फॉर ऑल, ऑल फॉर वन’ के दौरान सम्मानित किया गया। देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले बहादुर सैनिकों को सम्मानित करने के लिए अथर्व फाउंडेशन द्वारा ये कार्यक्रम आयोजित किया गया था। कार्यक्रम के दौरान नितिन गडकरी, केन्द्रीय सडक़ परिवहन और राजमार्ग मंत्री और देवेंद्र फडऩवीस, मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र मुख्य अतिथि थे। अथर्व फाउंडेशन ने कार्यक्रम में दस शहीदों के परिवारों को सम्मानित करने के लिए आमंत्रित किया था, जिसमें गुरदासपुर के लांस नायक संदीप सिंह और पठानकोट के लेफ्टिनेंट त्रिवेणी सिंह, अशोक चक्र (मरणोपरांत) के परिवार शामिल थे। अन्य शहीद जिनके परिवार के सदस्यों को सम्मानित किया गया, उनमें कोहिमा, नागालैंड के कैप्टन नेइकझुको केंगुर्से, (महावीर चक्र), नोएडा के मेजर उदय सिंह, (एससी, एसएम), मेजर मोहित शर्मा, (एसी, एसएम) गाजियाबाद, बुलंदशहर, यूपी से नायक नीरज कुमार सिंह (अशोक चक्र), उधमपुर जेएंडके से कैप्टन तुषार महाजन (शौर्य चक्र),चेन्नई से लेफ्टिनेंट नटराजन पार्थिबन (कीर्ति चक्र), सिंधुदुर्ग, महाराष्ट्र से नायक गावडे पांडुरंग महादेव (शौर्य चक्र), तिरुवनंतपुरम से कैप्टन आर. हर्षन (अशोक चक्र) शामिल थे। दो लिविंग लीजेंड्स, उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर से परमवीर चक्र से सम्मानित सूबेदार योगेन्द्र यादव और अंधेरी, मुंबई से विंग कमांडर जगमोहन नाथ (बार टू एमवीसी) को भी इस अवसर पर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के दौरान, सम्मानित सैनिकों की साहसपूर्ण कहानियों को हेमा मालिनी, रजा मुराद, महिमा चौधरी के साथ-साथ गुलशन ग्रोवर, मोहन जोशी, श्रेयश तलपड़े, दिलीप जोशी, वारिना हुसैन और पुनीत इस्सर सहित बॉलीवुड सितारों ने सुनाया। सुनील राणे, अथर्व फाउंडेशन ने कहा कि कार्यक्रम का उद्देश्य सशस्त्र बलों और उनके सर्वोच्च बलिदान के बारे में युवाओं में जागरूकता बढ़ाना है। इसका उद्देश्य युवाओं को इन बहादुर वीरों और देश के नायकों पर गर्व करने और अपने देश की सेवा के लिए रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करना है। राणे ने कहा कि ‘वन फॉर ऑल, ऑल फॉर वन’ का लक्ष्य सीमा पर तैनात सैनिकों की बेहतरी के लिए काम करना है।