• 6/25/2019

मुख्य खबर

Share this news on

पंजाब सरकार द्वारा अंतरराष्ट्रीय कौशल विकास केंद्र स्थापित करने के लिए एम.ओ.यू. पर हुए हस्ताक्षर

Preeti

/

2/6/2019 9:47:36 PM

चंडीगढ़, 6 फरवरी। निर्माण क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर का प्रशिक्षण मुहैया करवाने के मद्देनजऱ बुधवार को पंजाब द्वारा अपनी किस्म का पहला एम.ओ.यू. (समझौता) पर हस्ताक्षर हुआ। यह समझौता महाराजा रणजीत सिंह टेक्निकल यूनिवर्सिटी,बठिंडा(एम.आर.एस.पी.टी.यू) और ए.सी.ई.एस. स्किल सैंटर यू.के.(ए.एस.सी.) के बीच चरनजीत सिंह चन्नी, तकनीकी शिक्षा और रोजग़ार उत्पत्ति मंत्री, पंजाब और ऐंड्रीयू आइर, ब्रिटिश डिप्टी हाई कमिशनर, चंडीगढ़ की हाजिऱी में हस्ताक्षर किया गया। इस मौके पर चन्नी ने कहा कि निर्माण के क्षेत्र में पंजाब के नौजवानों को अंतरराष्ट्रीय स्तर का कौशल प्रदान करवाने के लिए ही यह प्रयास किया गया है ताकि पंजाबी नौजवानों को विदेशों में रोजग़ार हासिल करना आसान हो सके। शुरुआती प्रशिक्षण में कंक्रीट स्पैशलिस्ट, कारपेंटर और ब्रिक लेयर शामिल हैं और यह प्रशिक्षण 3-6 महीने का होगा। इस प्रशिक्षण को सफलतापूर्वक मुकम्मल करने के बाद यू.के. जाकर रोज़गार का अवसर भी मिलेगा। पहले पड़ाव के दौरान एम.आर.एस.पी.टी.यू. अपने मुख्य कैंपस बठिंडा में अंतरराष्ट्रीय कौशल विकास केंद्र स्थापित करेगा जहाँ ए.एस.सी. द्वारा राज्य की सहायता से मास्टर ट्रेनरों को प्रशिक्षण दिया जायेगा। जिससे उनको अंतरराष्ट्रीय स्तर का प्रवानित प्रशिक्षण और सर्टीफिकेट मुहैया करवाया जा सके। इस मौके पर ऐंड्रीयू ने कहा कि इस समझौते से मैं बहुत खुश हूँ। उन्होंने कहा कि 2017 में दोनों सरकारों के बीच हुए समझौते को दिखाता यह पहला सफल नतीजा है और पंजाबी नौजवानों के कौशल को सुधारने के लिए एक महत्वपूर्ण प्रयास है। ए.सी.ई.एस. कौशल केंद्र संबंधी और जानकारी देते हुए डैनी सांघा, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, ए.सी.ई.एस.़ कौशल केंद्र ने कहा कि ए.सी.ई.एस. में कई प्रशिक्षण प्रोग्राम जैसे निर्माण, स्वास्थ्य, सुरक्षा, लीडरशिप, ऐनालिटीकल और कम्यूनिकेशन स्किल्ज़ आदि का प्रशिक्षण दिया जाता है और शिक्षार्थी को यू.के. में इस्तेमाल किये जाते औज़ारों और उपकरण ईस्तेमाल करके तजुर्बा हासिल करने का मौका मिलता है। इस मौके पर अन्य आदरणीयों के साथ डॉ. सन्दीप सिंह कौअरा, सलाहकार, कौशल विकास मिशन, परवीन थिंद, डायरैक्टर, तकनीकी शिक्षा, डॉ. मोहन पॉल सिंह ईशर, वाईस चांसलर, एम.आर.एस.पी.टी.यू, बठिंडा भी शामिल थे।