• 4/23/2019

मुख्य खबर

Share this news on

दिनकर गुप्ता पंजाब पुलिस के नये प्रमुख, कैप्टन अमरिन्दर ने नियुक्ति को दी मंजूरी

Preeti

/

2/7/2019 9:39:08 PM

चंडीगढ़, 7 फरवरी। 1987 बैच के आई.पी.एस. अधिकारी दिनकर गुप्ता को पंजाब पुलिस का डायरैक्टर जनरल नियुक्त किया गया। वह सुरेश अरोड़ा की जगह पंजाब के डी.जी.पी. बने हैं, जो पिछले साल 30 सितम्बर को सेवा मुक्ति के बाद सेवाकाल के वृद्धि पर थे। दिनकर गुप्ता की नियुक्ति को आज प्रात:काल मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने मंजूरी दी। शानदार सेवाएं निभाने वाले अधिकारी दिनकर गुप्ता अपने बैच के तीनों अधिकारियों में सबसे सीनियर थे, जिनको इस हफ़्ते के शुरू में यू.पी.एस.सी. ने इस उच्च पद की नियुक्ति के लिए सूची में शामिल किया था। इससे पहले दिनकर गुप्ता डी.जी.पी. इंटेलिजेंस पंजाब में तैनात थे, जो पंजाब स्टेट इंटेलिजेंस विंग, स्टेट एंटी टैरेरिस्ट स्र्काड (ए.टी.एस.) और ऑरगैनाइजड़ क्राइम कंट्रोल यूनिट (ओ.सी.सी.यू.) की सीधी निगरानी करता है। तजुर्बेकार अधिकारी दिनकर गुप्ता को केंद्र में एडीशनल डायरैक्टर जनरल स्तर के पद के लिए नियुक्ति के लिए 26.04.2018 को सूची दर्ज किया गया था। वह 1987 बैंच के 20 आई.पी.एस. अधिकारियों में शामिल थे, जिनको इस सूची में शामिल किया गया था। वह पंजाब के इस सूची में शामिल एक ही अधिकारी थे। दिनकर गुप्ता जून, 2004 से जुलाई, 2012 तक आठ साल एम.एच.ए. के पास केंद्रीय डैपूटेशन पर रहे जहाँ उन्होंने बहुत संवेदनशील स्थानों पर जि़म्मेदारी निभाई जिनमें एम.एच.ए. के डिगनटरी प्रोटेक्शन डिविजऩ के प्रमुख का पद भी शामिल था। दिनकर गुप्ता ने आतंकवाद के समय के दौरान लुधियाना, जालंधर और होशियारपुर जि़लों के पुलिस प्रमुख (एस.एस.पी.) के तौर पर सात साल से अधिक सेवा निभाई। उन्होंने डी.आई.जी.(जालंधर रेंज), डी.आई.जी.(लुधियाना रेंज), डी.आई.जी.(काऊंटर इंटेलिजेंस), पंजाब और डी.आई.जी.(इंटेलीजैंस) पंजाब के तौर पर 2004 तक सेवा निभाई है। दिनकर गुप्ता ने ए.डी.जी.पी. ऐडमनिस्ट्रेशन एंड कम्युनिटी पुलिसिंग (2015-17), ए.डी.जी.पी. प्रोविज़निंग एंड माडर्नाइज़ेशन (2014-15), ए.डी.जी.पी. कानून व्यवस्था (2012 -15), ए.डी.जी.पी. सुरक्षा (2012-15), ए.डी.जी.पी. ट्रैफिक़ (2013-14), डी.आई.जी. रेंज (2002 में एक साल से अधिक और 2003 -04), एस.एस.पी. (जनवरी 1992 से जनवरी 1999 तक सात साल) सेवा निभाई। दिनकर गुप्ता को बहादुरी के लिए 1992 में पुलिस मैडल से सम्मानित किया गया। उनको अपनी ड्यूटी के दौरान विलक्षण साहस, बहादुरी और समर्पण दिखाने के लिए 1994 में बार टू पुलिस मैडल के साथ सम्मानित किया गया। उनको राष्ट्रपति द्वारा शानदार सेवाओं के लिए पुलिस मैडल प्राप्त हुए हैं। उनको 2010 में शानदार सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस मैडल मिला। दिनकर गुप्ता जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी, वाशिंगटन डी.सी.(यू.एस.ए.) में 2000-01 के दौरान विज़टिंग प्रोफ़ैसर रहे जहाँ उन्होंने जनवरी-मई, 2001 में ‘गोरमेंट्स अंडर सीज़: अंडरस्टैंडिंग टैरोरिज़म एंड टैरोरिस्टस ’ के पाठ्यक्रम को तैयार किया और पढ़ाया। वर्ष1999 में गुप्ता को बिर्टिश काऊंसल द्वारा बिर्टिश चेवेनिंग गुरूकुल स्कॉलरशिप प्रदान किया गया, जिसके अधीन उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक, लंदन में 10 हफ़्ते के गुरूकुल प्रोग्राम में हिस्सा लिया। उन्होंने स्कॉटलैंड यार्ड, लंदन और न्यूयॉर्क पुलिस डिर्पाटमैंट समेत बहुत सी अंतरराष्ट्रीय पुलिस फोर्स को शिक्षित किया। उन्होंने यूनिवर्सिटियों और अमरीका के प्रमुख बुद्धिजीवियों में अपने भाषण दिए। उन्होंने 1996 में इंटरपोल द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद संबंधी एक सिम्पोजि़अम में भारतीय नुमायंदगी की। वर्ष1997 में उनको सुपरकॉप पर भारत की डी.जी.पी. /आई.जी.पी. कान्फ्रैंस में पेशकारी करने के लिए न्योता दिया गया। उन्होंने अपराध, डाटाबेस, प्रबंधन और ग्रामिण सूचना व्यवस्था का सॉफ्टवेयर तैयार किया।