• 3/27/2019

मुख्य खबर

Share this news on

राहुल गांधी व कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पंजाब लोकसभा चुनाव के लिए बिगुल बजाया

Image

Varsha

/

3/7/2019 9:02:53 PM

किल्ली चाहलां (मोगा), 7 मार्च। कांग्रेस पार्टी ने आज पंजाब में लोकसभा चुनाव के लिए बिगुल बजा दिया है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने भारतीय जनता पार्टी और इसके सहयोगी शिरोमणी अकाली दल पर तीखा हमला करते हुए भरोसा प्रकट किया है कि कांग्रेस पार्टी आगामी चुनाव में पंजाब में अकाली -भाजपा गठजोड़ का पूरी तरह सफाया कर देगी। पंजाब में कांग्रेस पार्टी द्वारा किसान कजऱ् राहत स्कीम के चौथे पड़ाव की शुरुआत करते हुए दोनों नेताओं ने मोदी सरकार के विभिन्न मोर्चों पर नाकाम रहने को नंगा करते हुए कहा कि मोदी सरकार लोगों की भलाई के लिए किये वायदों को लागू करने में पूरी तरह नाकाम रही है और उन्होंने केंद्र की लोक विरोधी सत्ता को उखाड़ फेंकने और कांग्रेस के हक में मतदान करने का लोगों को न्योता दिया। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पंजाब की 13 की 13 लोकसभा सीटों के अपने मिशन को दोहराया और राहुल गांधी को देश का अगला प्रधानमंत्री बनाने का ऐलान किया। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रमुख ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सभी मोर्चों पर असफल रहने का जि़क्र करते हुए राफेल और किसानी कर्जे की माफी जैसे अहम मुद्दों पर 15 मिनट की बहस के लिए चुनौती दी। राहुल गांधी ने किसान कजऱ् माफी स्कीम के लिए कैप्टन अमरिन्दर सिंह की प्रशंसा की जिसके लिए मुख्यमंत्री ने आज चौथे दौर की शुरुआत की जिस अधीन 15000 छोटे किसानों को 200 करोड़ रुपए की राहत मुहैया कराई जायेगी। इसके अलावा इस स्कीम के घेरे में दलितों और भूमि रहित किसानों को लाया जायेगा और इस स्कीम के अधीन 2.82 लाख खेत मज़दूरों के 520 करोड़ रुपए के कजऱ्े माफ किये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानी भाईचारे की हर हाल में रक्षा की जायेगी जबकि राहुल गांधी ने ऐलान किया कि किसानी कजऱ्े कांग्रेस के शासन वाले राज्यों में माफ किये जा रहे हैं जबकि इसके मुकाबले मोदी सरकार संकट में घिरे किसानों को बचाने में असफल रही है। कांग्रेस अध्यक्ष ने पूछा कि यदि मोदी बड़े औद्योगिक घरानों के कजऱ्े माफ कर सकते हैं जिससे किसानों के कजऱ्े माफ क्यों नहीं किये जा सकते। राहुल गांधी ने राफेल सौदे के मामले में शर्तों को अम्बानी के हक में पलटाने के लिए मोदी की तीखी आलोचना की। उन्होंने कहा कि मोदी ने 3.50 रुपए प्रति दिन देकर किसानों के साथ भद्दा मज़ाक किया है जबकि उद्योगों को तोहफ़े के तौर पर करोड़ों रुपए दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आने के बाद सभी के लिए न्यूनतम गारंटी स्कीम को यकीनी बनाया जायेगी। राहुल गांधी ने ऐलान किया कि गुम हुई राफेल की फाइलें इसका सबूत हैं कि चौकीदार स्पष्ट तौर पर चोर है। उन्होंने कहा कि अंबानी को 30 हज़ार करोड़ रुपए का लाभ पहुँचाया गया है। उन्होंने कहा कि इन फाइलों से यह खुलासा होता है कि जैट प्राप्त होने में इस कारण देरी हुई क्योंकि मोदी सरकार द्वारा समानांतर बातचीत चलाई जा रही थी। उन्होंने कहा कि इनके मिलने में देरी होने के कारण भारतीय वायु सेना को भारी कीमत चुकानी पड़ी है जिनके पायलटों के जीवन को मोदी ने खतरे में डाला है। पिछले चुनाव के दौरान मोदी द्वारा हर परिवार के खाते में 15 लाख रुपए जमा कराने के किये वायदे में असफल रहने के लिए मोदी की तीखी आलोचना करते हुए राहुल ने रैली में मौजूद भारी भीड़ से पूछा कि किसी के खाते में मोदी द्वारा किये गए वायदे के अनुसार राशि आई है। लोगों ने इसका उत्तर ‘न’ में दिया जिनके इस उत्तर से मुस्कुरा कर राहुल ने मोदी की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा कि मोदी ने पंजाब विधानसभा के 2017 के चुनाव से बिल्कुल पहले बादलों के साथ समझौता किया और नोटबंदी के बददिमाग़ी फ़ैसले से अनौपचारिक क्षेत्र को तबाही पर पहुँचा दिया। देश में नफऱत फैलाने का प्रधानमंत्री पर दोष लगाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अगले चुनाव में विचारधारक संघर्ष होगा और गुरू नानक देव जी के आपसी प्यार और आपसी सत्कार वाले दर्शन की जीत होगी। उन्होंने कहा, ‘‘हम शानदार तरीके से श्री गुरु नानक देव जी का 550वां प्रकाश पर्व मनाएंगे।’’ राहुल गांधी ने पंजाब का 31000 करोड़ रुपए राज्य को वापस न करने और दोषपूर्ण जी.एस.टी. के लिए मोदी सरकार की आलोचना की। उन्होंने विजय माल्या को मुल्क छोडऩे की इजाज़त देने के लिए केंद्रीय मंत्री अरुण जेतली को सवाल करते हुए उनके खि़लाफ़ जांच की माँग की। सभी इनफोर्समैंट एजेंसियों पर श्री जेतली के अधिकार में होने का जि़क्र करते हुए कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि ई.डी. और डी.आर.आई. प्रधानमंत्री के कंट्रोल में काम कर रही हैं और उनके द्वारा इन एजेंसियों को ड्रग माफिया की बड़ी मछलियां पकडऩे और पंजाब को तबाह करने वालों को काबू करने के लिए निर्देश देने चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने पंजाब में ड्रग माफीए की कमर तोड़ देने के लिए मुख्यमंत्री की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह हमारे लिए बहुत संतोष की बात है कि नौजवानों के मन में अपने बेहतर भविष्य की उम्मीद फिर जागी है। मुख्यमंत्री ने पंजाब में पिछली अकाली -भाजपा सरकार द्वारा 31000 करोड़ रुपए के विरासती कजऱ्े के द्वारा राज्य को तबाही की ओर धकेलने की तीखी अलोचना करते हुए कहा कि इससे राज्य पर बड़ा बोझ पड़ा है। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि इस सम्बन्ध में उनके द्वारा प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री के पास बार-बार की गई पैरवी के बावजूद ये दोनों नेता इसको सुलझाने में नाकाम रहे हैं। मुख्यमंत्री ने राज्य में पिछली सरकार के बुरे शासन के विपरीत उनकी सरकार द्वारा सभी बड़े वायदों को सफलतापूर्वक पूरा करने का जि़क्र करते हुए कहा कि नशों की कमर तोड़ी, उद्योग को पुनर्जीवित करने के लिए 65000 करोड़ रुपए की लागत वाले एम.ओ.यू. किये जिनमें से 36000 करोड़ के प्रोजैक्ट ज़मीनी स्तर पर अमल में आने लगे हैं और 32000 किलोमीटर लिंक सडक़ों की मुरम्मत का काम मुकम्मल हो चुका है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार इस बार बहुत ज़्यादा फ़सल मंडियों में आने के लिए आशावान है परन्तु राज्य में एक भी गोदाम खाली नहीं है। उन्होंने माँग की कि केंद्र सरकार गोदामों में पड़ा माल उठवाकर आने वाली फ़सल के भंडारण के लिए जगह बनाने की जि़म्मेदारी उठाए। पिछली अकाली सरकार के दौरान पवित्र ग्रंथों की बेअदबी की 43 घटनाओं का जि़क्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार के सत्ता में आने के बाद सभी मामलों को हल किया गया। उन्होंने इसमें शामिल लोगों को किसी भी सूरत में न क्षमा करने का प्रण लिया, चाहे कोई कितना भी शक्तिशाली क्यों न हो और हर एक को सलाखों के पीछे भेजने को यकीनी बनाया जायेगा। इससे पहले पंजाब प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने अपने राजनैतिक हितों के लिए मुल्क को जंग की ओर धकेलने के लिए मोदी की कड़ी आलोचना की। इस मौके पर उन्होंने कैप्टन अमरिन्दर सिंह की प्रशंसा की जो जंग के लिए उकसाने वालों द्वारा पैदा किये युद्ध के ख़ौफ़ के माहौल में लोगों का भरोसा बहाल करने के लिए ख़ुद उनके पास पहुँचे। उन्होंने कहा कि ज़रूरत पडऩे पर कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरहदी लोगों के साथ डटकर खड़े रहे। श्री जाखड़ ने कहा कि इस मुल्क के लोग मौजूदा मोदी सरकार को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाकर राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी को लाएंगे। पंजाब मामलों की इंचार्ज ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी की सचिव आशा कुमारी ने ख़ुशहाल पंजाब को नशों के दलदल में धकेलने के लिए अकालियों और भाजपाईयों की तीखी अलोचना की। उन्होंने भरोसा ज़ाहिर किया कि राहुल गांधी और कैप्टन अमरिन्दर सिंह के गतिशील नेतृत्व में राज्य का गौरवमयी विरसा फिर बहाल होगा जिसका संकेत पिछले दो सालों की सफलताओं से मिलता है। उन्होंने कहा कि मुल्क को फिर प्रगति के मार्ग पर लाने के लिए सभी देशवासी कांग्रेस की ओर देख रहे हैं।