• 3/27/2019

मुख्य खबर

Share this news on

हरियाणा सरकार ने 1443 करोड़ रूपए के बजट प्रस्तावों को दी मंजूरी

Dr.Kumar

/

3/7/2019 9:03:36 PM

चण्डीगढ़, 6 मार्च। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने वीरवार को गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की तीसरी बैठक में वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 1443 करोड़ रूपए के बजट प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। इसमें से लगभग 508 करोड़ रूपए वर्तमान में जीएमडीए द्वारा करवाए जा रहे कार्यों पर खर्च होंगे। आज की बैठक में चालू वित्त वर्ष के संशोधित प्रस्तावों को भी मंजूरी दी गई और जीएमडीए के पिछले डेढ़ साल के कार्यों की समीक्षा भी की गई। जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव, वी. उमा शंकर ने जीएमडीए का वर्ष 2019-20 के बजट प्रस्ताव प्रस्तुत करते हुए कहा कि 1443 करोड़ रूपए के बजट प्रस्तावों में से लगभग 508 करोड़ रूपए की राशि वर्तमान में चल रहे सुधारीकरण परियोजनाओं पर खर्च होगी। इन परियोजनाओं में लैफिटनेंट अतुल कटारिया चैक, उमंग भारद्वाज चैक से एनपीआर तक की सडक़ को 6 लेन की बनाना, महावीर चैक तथा हुडा सिटी सैंटर मैट्रो स्टेशन के चारों तरफ के सुधारीकरण के कार्य शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए बताया कि गुरूग्राम में चल रहे स्मार्ट सिटी प्रोजैक्टों के लिए भी 90 करोड़ रूप्ए की राशि का प्रावधान किया गया है जिसमें इन्टीग्रेटिड कमांड एण्ड कंट्रोल सैंटर की स्थापना, टैऊफिक मैनेजमेंट सिस्टम के साथ सिटी वाईड पब्लिक सेफटी सीसीटीवी सिस्टम को चालू करना तथा सैंट्रलाईज्ड इंटीग्रेटिड वॉटर मैनेजमेंट सिस्टम शामिल हैं। उन्होंने बताया कि स्मार्ट सिटी परियोजनाओं के अंतर्गत बस क्यू शैल्टरों तथा सरकारी कार्यालयों में पब्लिक के लिए एक घंटे फ्री वाई फाई की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी इनीशिएटिवज में गुरूग्राम ना केवल हरियाणा में पहले नंबर पर है बल्कि शायद उत्तर भारत में भी पहले स्थान पर है। जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी उमा शंकर ने बताया कि इन इनीशिएटिवज के तहत गुरूग्राम में लगभग 600 किलोमीटर लंबी ऑप्टिकल फाईबर बिछाई जाएगी जिसमें से अब तक 105 किलोमीटर लंबी ऑप्टिकल फाईबर केबल बिछाई जा चुकी है तथा 250 किलोमीटर से ज्यादा डक्ट बिछाई गई हैं। यह कार्य 3 ऐजेंसियंा कर रही हैं और जून 2019 तक इसके पूरा होने का अनुमान है। उन्होंने बताया कि सिटी वाईड सीसीटीवी बेस्ड पब्लिक सेफटी तथ अडेप्टिव टैऊफिक मैनेजमेंट सिस्टम के प्रथम चरण के टैंडर हो चुके हैं। इस प्रणाली से पुलिस के थानों के अलावा स्ट्रीट लाईट, कचरा प्रबंधन सहित शहर की 16 सेवाएं जुड़ेंगी। श्री उमाशंकर ने बताया कि मॉल तथा अन्य प्राईवेट जगहों पर भी लगे लगभग 60 हजार कैमरे इस प्रणाली से जुड़ेगे। बजट प्रस्तावों में बताया गया कि 59 करोड़ रूप्ए की राशि मोबिलिटी इंफ्रास्ट्रक्चर डिवलपमेंट पर खर्च होगी। इसमें गुरूग्राम महानगर सिटी बस लिमिटिड के लिए सैक्टर- 10 में बस अड्डे का निर्माण, फुट ओवर ब्रिज, चैराहों का सुधारीकरण तथा अन्य कार्य शामिल हैं। इसके अलावा, सीएसआर के तहत जुटाई जाने वाली 23 करोड़ रूपए की राशि ग्रीन बैल्ट और पार्कों के विकास के अलावा वजीराबाद में जलाशय विकसित करने पर खर्च होगी। यही नहीं लगभग 59 करोड़ रूप्ए की राशि सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर जिसमें खेडक़ी माजरा सैक्टर-102 में मैडिकल अस्पताल का निर्माण, सैक्टर 67 में मल्टी स्पेशिलिटी अस्पताल तथा ताऊ देवीलाल स्पोट्र्स कम्पलैक्स में सिन्थैटिक टैऊक बिछाने जैसे चल रहे कार्यों के लिए प्रावधान किया गया है। लगभग 535 करोड़ रूप्ए की राशि इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए निर्धारित की गई है जोकि इडीसी के प्राप्त होगी। इसमें सडक़ों का विकास, पेयजल आपूर्ति, सीवरेज सिस्टम, स्टोर्म वॉटर डेऊनेज, पर्यावरण संरक्षण तथा वॉटर री-साईकलिंग के कार्य शामिल हैं। ईडीसी से प्राप्त होने वाली लगभग 43 करोड़ रूप्ए की राशि सैक्टर-72 व 72ए की मास्टर डिवाईडिंग रोड़ बनाने के अलावा, सैक्टर 58 से 115 के नए सैक्टरों में सडक़े बनाने पर खर्च होगी। श्री उमाशंकर ने बताया कि लगभग 86.95 करोड़ रूपए की राशि सडक़ों के ऑपे्रशन तथा मैन्टेनैन्श के लिए निर्धारित की गई है। पेयजल आपूर्ति, सीवरेज, डेऊनेज तथा वॉटर री-साईकलिंग के लिए 208 करोड़ रूपए की राशि निर्धारित की गई है। वर्ष 2019-20 में 44.77 करोड़ रूपए की राशि का प्रावधान अस्टाब्लिसमेंट, वेतन, वेजिज, मैन पॉवर, आईटी तथा कम्युनिकेशन व जीआईएस इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च होगी। ईडीसी से मिलने वाले लगभग 534.90 करोड़ रूप्ए में से 120 करोड़ रूपए की राशि पानी और सीवरेज के चार्जिज से प्राप्त होगी।