• 3/27/2019

मुख्य खबर

Share this news on

सात दशक में भी भारत की महिला शक्ति को उसके सभी अधिकार प्राप्त नहीं हुए: चौहान

Image

Varsha

/

3/8/2019 7:48:48 PM

नीलोखेड़ी, 8 मार्च। स्वाधीनता के सात दशक बीत जाने के बाद भी भारत की महिला शक्ति को उसके सभी अधिकार वास्तव में प्राप्त नहीं हुए हैं। आधी आबादी अपने अधिकारों को हासिल करने के लिए और अधिक सचेत होकर संघर्ष करने का संकल्प ले, तभी महिला दिवस मनाना सार्थक हो सकता है। हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष प्रोफ़ेसर वीरेंद्र सिंह चौहान ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में राजकीय कन्या महाविद्यालय तरावड़ी की छात्राओं और शिक्षकों को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की। प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि भारत में मुग़ल काल से पहले महिलाओं की स्थिति अपेक्षाकृत बहूत अच्छी थी। पर्दा प्रथा और बेटियों को लेकर समाज में असुरक्षा का दृष्टिकोण विदेशी आक्रांताओं के उसी ज़माने की देन है। उन्होंने कहा कि भारत में महिलाओं को पुरुषों के बराबर नहीं बल्कि उनसे कहीं अधिक ऊँचा स्थान प्राप्त रहा है। हमारे मनीषियों ने तो खुलकर हज़ारों साल पहले यह खुलकर यह ऐलान किया था कि जहाँ नारी की पूजा होती है वहाँ देवताओं का वास होता है। यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता, एक बार पुनः हम सबको मिलकर भारत में ऐसा ही श्रेष्ठ माहौल बनाने के लिए काम करना है। चौहान ने कहा कि आज भारत में बेटियां तेज गति से समाज जीवन के हर क्षेत्र में अपना स्थान बनाती जा रही है। देश की रक्षा मंत्री आज निर्मला सीतारमन हैं तो विदेश मंत्रालय की कमान हरियाणा की बेटी श्रीमती सुषमा स्वराज के हाथ में है। उन्होंने कहा कि हरियाणा की बेटियों को जीवन में ऊँचे लक्ष्य निर्धारित करके उन्हें प्राप्त करने के लिए स्वाध्याय पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि बेटियों का आत्मविश्वास शिक्षा के रास्ते से ही बढ़ेगा और उसी आत्मविश्वास के सहारे वे राष्ट्र निर्माण के कार्य में प्रभावी भूमिका अदा कर सकेंगी । कार्यक्रम के अंत में महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. लोकेश त्यागी ने आगुन्तकों , विद्यार्थियों व सहयोगी शिक्षकों का कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए आभार प्रकट करते हुए कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रमों विद्यार्थियों को खुलकर सोचने हेतु आयाम देते हैं जो नियमित शिक्षा के साथ साथ अत्यंत महत्वपूर्ण है । इस अवसर पर डॉ. सुरेंदर रमन, डॉ. राजबीर, प्रीती चोकर, निशा, दीपिका, आभा व दिनेश आदि उपस्थित थे ।