• 6/17/2019

मुख्य खबर

Share this news on

नवजोत सिंह सिद्धू ने स्वच्छ सर्वेक्षण -2019 में गौरवमयी उपलब्धि के लिए स्थानीय निकाय विभाग के प्रयासों की करी सराहना

Image

Rohit Aswal

/

3/9/2019 8:43:05 PM

चंडीगढ़, 9 मार्च । पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने स्वच्छ सर्वेक्षण-2019 में विशेष सम्मान की प्राप्ति के लिए विभाग की सराहना की है। जि़क्रयोग्य है कि आवास निर्माण और शहरी मामलों के केंद्रीय मंत्रालय द्वारा विश्व में अपनी तरह के सबसे बड़े सर्वेक्षण का आयोजन किया गया। इस सर्वेक्षण में पंजाब को ‘सस्टेनेबल सेनिटेशन’ की तरफ अपनी प्रगतिशील पहलकदमियों के लिए सेनिटेशन में समूह राज्यों में से उत्तम राज्य घोषित किया गया और ‘बैस्ट परफॅारमिंग स्टेट इन सेनिटेशन’ अवार्ड के साथ नवाजा गया। 6 मार्च, 2019 को भारत के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द द्वारा नतीजों की घोषणा की गई और आवास निर्माण और शहरी मामलों के केंद्रीय मंत्रालय द्वारा विज्ञान भवन, दिल्ली में इनाम वितरण समारोह का आयोजन किया गया। इस संबंधी और जानकारी देते हुये सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि इस सर्वेक्षण में देश भर में से 4237 शहरी स्थानीय इकाईयों को कवर किया गया। स्वच्छ सर्वेक्षण -2018 में अच्छे नतीजे हासिल करने के बाद पूरे राज्य को एक समान स्तर पर लाने के लिए संपूर्ण पहुँच के साथ काम करने का प्रण लिया गया था। नतीजे के तौर पर समूह 167 शहर खुले में सोच मुक्त ऐलाने गए और कोई भी रीसर्टीफिकेशन में असफल नहीं हुआ और एक शहर को ओ.डी.एफ. + और दो शहरों को ओ.डी.एफ. ++ मिला। प्रवक्तो ने आगे बताया कि कुल मिला कर पंजाब राज्य ने उत्तरी भारत में पहला स्थान हासिल किया और देश भर में से पिछले साल के 9वें स्थान के मुकाबले 7वां स्थान हासिल किया। स्वच्छ सर्वेक्षण -2017 में पिछले 10 राज्यों में से आगे आते हुये स्वच्छ सर्वेक्षण -2018 में 9वां स्थान हासिल किया। इस बार राज्य ने अपनी रैंकिंग में और सुधार करते हुये 7वां स्थान हासिल किया है। इस संबंधी और बताते हुये प्रवक्ता ने कहा कि 1 लाख से कम जनसंख्या वाली श्रेणी में नगर निगम नवांशहर को उत्तरी क्षेत्र में 1020 शहरी स्थानीय इकाईयों में से सबसे साफ़ शहर घोषित किया गया है। इसको कूड़ा-कर्कट मुक्त शहर नवांशहर (3 स्टार) के लिए भी पुरुस्कार मिला। उपरोक्त के अलावा, 2 यू.एल.बीज़. दिढ़बाज़ को उत्तरी जोन और यू.एल.बी. में फास्टैस्ट मूविंग सिटी पुरुस्कार के साथ नवाजा गया। ‘द अमृतसर कंटोनमैंट बोर्ड’ को ‘फास्टैस्ट मूवर कंटोनमैंट बोर्ड’ का पुरुस्कार मिला है। ज़ीरा, खरड़, भोगपुर, जालंधर कैंट, भाईरूपा, रूपनगर नामक 6 शहरों को विभिन्न जनसंख्या श्रेणियों में सम्मानित किया गया है। 1 लाख से अधिक जनसंख्या वाली श्रेणी में बठिंडा और पटियाला ने 425 शहरों में से क्रमवार 31वां और 72वां स्थान हासिल किया है। इसके अलावा अमृतसर, जालंधर, पठानकोट, अबोहर, मोगा, बरनाला, मुक्तसर और बटाला ने स्वच्छ सर्वेक्षण -2018 में अपनी रैंकिंग में काफ़ी सुधार किया है। उत्तरी जोन में 1 लाख से नीचे की जनसंख्या वाली 1020 शहरी स्थानीय इकाईयों में से पंजाब की 32 शहरी स्थानीय इकाईयां टॉप 100 रैंकिंग में हैं। पंजाब को यह स्थान लगभग 1 साल पहले शुरू की गई जन जागरूकता और कम्युनिटी मोबिलाईजैशन मुहिम के कारण मिला है। वैज्ञानिक ढंग के साथ ठोस अवशेष के प्रबंधन के लिए म्युनिसिपल स्टाफ और दूसरे भाईवालों के सामथ्र्य निर्माण सफ़ाई के लिए ध्यान केंद्रित करने का अन्य क्षेत्र है। इस गौरवमयी उपलब्धि का श्रेय पंजाब के लोगों को जाता है जिनको बैस्ट प्रेक्टिसिज अपनाने के लिए राज्य के उच्च राजनैतिक नेतृत्व का समर्थन हासिल है।