• 6/17/2019

मुख्य खबर

Share this news on

परमात्मा की चर्चा या गुणगान करने मात्र से मोक्ष की प्राप्ति नहीं होती: कृपा सागर

Image

Surinder Kumar

/

3/9/2019 9:01:39 PM

चण्डीगढ 9 मार्च। जिसप्रकार प्रातःकाल की स्वच्छ वायु, फूलों की मधुर सुगन्ध व उगते सूर्य की किरणों का लाभ केवल वही उठा पाते हैं जो व्यक्ति बन्द कमरे से बाहर निकल कर मैदानों में जाते हैं ठीक उसी प्रकार इन्सान द्वारा परमात्मा की चर्चा या गुणगान करने मात्र से नहीं बल्कि सत्गुरू की शरण में जाकर इसकी जानकारी हासिल करके इसे अच्छी तरह पहचान कर अपने जीवन का अंग बना लेने से ही चौरासी लाख योनियों से छुटकारा प्राप्त किया जा सकती है, ये उद्गार शनिवार को यहां सन्त निरंकारी मण्डल देहली से आए रोशन मिनार कृपा सागर ने सेक्टर 15 में स्थित सन्त निरंकारी सत्संग भवन में हुए विशाल सत्संग में उपस्थित श्रद्धालुओं को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। सागर ने गीता का हवाला देते हुए कहा कि उसमें भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है कि जो भी इन्सान परमात्मा को पहचान लेता है उसके संचित कर्म तत्काल समाप्त हो जाते हैं फिर उसे उनका भुगतान नहीं करना पड़ता जिससे उसकी मुक्ति संभव हो जाती है । ऐसे इन्सान को संसार छोड़ते समय किसी प्रकार का दुख नहीं होता क्योंकि वह पहले भी परमात्मा से जुड़ा होता है और बाद में भी उसकी आत्मा परमात्मा में विलीन हो जाती है । ऐसे समय में वह परमात्मा का शुक्रिया अदा करता है कि आपने मुझे इस धरती पर रहने का जितना भी समय दिया तेरा शुक्रिया है ।