• 6/17/2019

मुख्य खबर

Share this news on

स्वास्थ्य मंत्री ने आईवी हॉस्पिटल में ‘पंजाब किडनी फाउंडेशन’ की करी शुरुआत

Image

Dr.Kumar

/

3/13/2019 9:21:00 PM

मोहाली, 13 मार्च। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा ने बुधवार को मोहाली स्थित आईवी हॉस्पिटल में किडनी सपोर्ट ग्रुप व डेडीकेटेड किडनी हेल्पलाइन , ‘पंजाब किडनी फाउंडेशन’ को लॉन्च किया। इस मौके पर गुरतेज सिंह, चेयरमैन, आईवी ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स,डॉ.कंवलदीप, मेडिकल डायरेक्टर, डॉ. अविनाश श्रीवास्तव, डायरेक्टर, यूरोलॉजी और रेनल ट्रांसप्लांट सर्जरी, डॉ.राका कौशल, डायरेक्टर, नेफ्रोलॉजी और डॉ. अरुणा बी. भोय, फैसेलिटी डायरेक्टर भी उपस्थित थे। पंजाब किडनी फाउंडेशन के रजिस्टर्ड सदस्य हर दो महीने में एक बार मिलेंगे। इस प्लेटफार्म में, सदस्यों को बीमारी, उपचार के तौर-तरीकों, आहार और जीवन शैली प्रबंधन आदि के बारे में जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से उपयोगी जानकारियों के साथ सशक्त बनाया जाएगा। इसके साथ ही उनके सामान्य प्रश्नों को हल किया जाएगा- जैसे कि उनके पास क्या विकल्प हैं, कौन किडनी दान कर सकते हैं, डायलिसिस को कितने अंतराल पर करवाना चाहिए और आहार संबंधी सलाह आदि। यह फोरम किडनी फेल होने के आईवी हॉस्पिटल के रोगियों के अलावा अन्य सभी रोगियों और उनके रिश्तेदारों, के लिए भी खुला रहेगा। एक-दूसरे के साथ सीधी बातचीत के सत्रों के अलावा, किडनी रोगियों के लिए डाइट क्लासेज और मनोरंजक गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। किडनी हेल्पलाइन नं. 9888388809 रोगी को शिक्षित करने और उनका मार्गदर्शन करने के लिए योग्य टीम द्वारा प्रबंधित किया जाएगा। गुरतेज सिंह ने कहा कि पंजाब की सबसे बड़ी अस्पताल चेन होने के नाते, हमारे हर अस्पताल में एक डायलिसिस सेंटर है। मोहाली यूनिट में 25 डायलिसिस मशीनें हैं और किडनी का बेहद आधुनिक ट्रांसप्लांट सिस्टम उपलब्ध है। भविष्य में हमारी अपने विशेषज्ञ नेफ्रोलॉजिस्ट और ट्रांसप्लांट सर्जन द्वारा ई-कंसल्टेंसी शुरू करने की योजना भी है। इस अवसर पर, अपने करीबी प्रियजनों की जान बचाने के लिए अपनी किडनी दान करने वाले लगभग दर्जन लोगों सम्मानित किया गया। जिन लोगों को सम्मानित किया गया उनमें शामिल थे: स्वतंत्रता और शोभा, दोनों ने अपने-अपने बेटों का जीवन बचाने के लिए अपनी अपनी किडनी दान की; सुधा, सुरजीत कौर, कुलजीत कौर, परमजीत कौर, सुपिंदर कौर और जरनैल कौर, इन सभी ने अपने पति की जिंदगी बचाने के लिए अपनी किडनी दान की। प्रकृति , जिसने अपनी मां के लिए अपनी किडनी दान की, पवन तनेजा और कुलदीप सिंह जिन्होंने अपनी पत्नियों की जान बचाने के लिए किडनी दान की और करण ने अपनी किडनी दान करके अपनी बहन की जान बचाई।