• 7/24/2019

मुख्य खबर

Share this news on

गरीब विरोधी है बीजेपी: प्रदीप छाबड़ा

Image

Dr.Kumar

/

3/26/2019 9:33:45 PM

चंडीगढ़ ,26 मार्च। चंडीगढ़ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की तरफ से की गई न्यूनतम बैसिक स्कीम पर चंडीगढ़ में बीजेपी को घेरते हुए मंगलवार को कांग्रेस भवन में कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार पूरी तरह से गरीबी विरोधी है और वह नहीं चाहते कि देश के गरीबों की हालत में सुधार हो सके। उन्होंने कहा कि पीएम 10 लाख का शूट तो पहन सकते हैं, लेकिन गरीबों को फायदा पहुंचाने वाली स्कीम के साथ खड़े नहीं हो सकते। प्रदीप छाबड़ा ने कहा कि जिस दिन मोदी प्रधानमंत्री बने, उन्होंने तभी से गरीबों के खिलाफ काम करने शुरू कर दिए थे। इसके लिए उन्होंने पीएम मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने सबसे पहले देश के गरीबों के लिए चलाई जाने वाली योजना मनरेगा को भी विरोध किया। राहुल गांधी ने एतिहासिक शुरुआतकी, गरीब को न्याय और यही है आय। देश के 20 प्रतिशत गरीब परिवार पूरे साल में 72 हज़ार रुपये मिलेगा। ये टॉपअप स्कीम नहीं है। 5 करोड़ परिवार यानी 25 करोड़ लोगों को 72 हज़ार रुपये मिलेगा। छाबड़ा ने बताया कि ये वीमेन सेंट्रिक है और महिलाओं के खाते में जमा होंगे ये पैसे। गरीबी मिटानी वाली ये दुनिया की सबसे बड़ी स्कीम है। मोदी बिजनेसमैन को करोड़ों रुपये दे सकते है, 82 विदेश दौरे पर पैसा खर्च कर सकते है, अपने मित्र अनिल अंबानी को ठेका दिलवा सकते है, लेकिन 72 हज़ार रुपये एक गरीब परिवार को नहीं दे सकते कांग्रेस ने पीएम मोदी पर ये आरोप लगाए... 1: किसान को उचित मुआवजा देने वाले कानून को तोड़ डाला 2: फूड सिक्योरिटी कानून का विरोध किया 3: आदिवासियों को जल, जंगल और जमीन का अअधिकार देने के कानून का विरोध किया 4: किसान की कर्जमाफी का विरोध किया 5: सुप्रीम कोर्ट में शपथ पथ देकर कहा कि किसान को कभी भी लागत पर 50 फीसदी मुआवजा नहीं दिया जा सकता 6: प्रताड़ना का कानून खत्म किया 7: अनुसूचित जातियों और एससी, एसटी 8: नोटबंदी जैसे घोटाले के माध्यम से 4 करोड़ 70 लाख लोगों की नौकरी छीन ली 9: गब्बर सिंह टैक्स लगाकर लोगों का धंधा खत्म कर दिया 10: सदन में आते ही मनरेगा का विरोध किया इस मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल ने कहा कि कांग्रेस ने हर गरीब को सालाना 72 हजार का वादा किया। इसके दायरे में 20 फीसदी गरीब परिवारमतलब पांच करोड़ के करीब परिवार आएंगे यानि अगर राहुल का ये वादा ज़मीन पर उतरा तो देश के 25 करोड़ लोगों की जिंदगी बदल जाएगी।