• 4/23/2019

मुख्य खबर

Share this news on

मतदान की प्रक्रिया स्थगित कर दी जाएगी: राजीव रंजन

Preeti

/

3/26/2019 9:35:39 PM

चंडीगढ़, 26 मार्च । हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन ने कहा कि चुनाव प्रक्रिया के दौरान यदि मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल के किसी उम्मीदवार की नामांकन पत्र भरने की आखिरी तारीख के दिन 11.00 बजे के बाद मृत्यु हो जाती है, लेकिन उम्मीदवार द्वारा नामांकन पत्र भरा जा चुका है तथा नामांकन पत्रों की जांच के दौरान भी नांमाकन पत्र सही पाया जाता है और नामांकन वापिस नहीं लिया जाता है तो इस स्थिति में मतदान की प्रक्रिया स्थगित कर दी जाएगी। यह जानकारी रंजन ने आज यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों की चुनावी तैयारियों को लेकर की गई समीक्षा बैठक के दौरान दी। बैठक में रंजन ने कहा कि मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल के किसी उम्मीदवार की मृत्यु की सूचना यदि मतदान वाले दिन मतदान शुरू होने से पहले मिल जाती है तो मतदान की प्रक्रिया को स्थगित कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि कोई निर्दलीय उम्मीदवार या किसी अन्य राज्य से मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल का उम्मीदवार है तो उस स्थिति में मतदान की प्रक्रिया को स्थगित नहीं किया जाएगा, मतदान की प्रक्रिया निरंतर चलती रहेगी। उन्होंने सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को इस बात से अवगत कराया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा पहली बार कश्मीरी विस्थापित वोटरों के लिए विशेष सुविधा दी गई है। अगर कोई कश्मीरी विस्थापित वोटर उनके फॉर्म-एम व फॉर्म-12सी के साथ आता है तो जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा उनके वर्तमान रिहायशी प्रमाण पत्र, विस्थापित प्रमाण पत्र तथा पहचान पत्र के साथ सभी दस्तावेजों को पोर्टल पर अपलोड करना है। रंजन ने कहा कि रात 10.00 बजे से सुबह 6.00 बजे तक लाउडस्पीकर के प्रयोग पर प्रतिबंध रहेगा। इसके साथ ही इस समयावधि के दौरान बल्क एसएमएस और डोर टू डोर अभियान पर भी प्रतिंबध रहेगा। रंजन ने कहा कि 12 मई को हरियाणा में लोकसभा चुनावों के लिए मतदान होगा। इसलिए चुनाव डयूटी के दौरान सभी रिटर्निंग अधिकारी व सहायक रिटर्निंग अधिकारी अपने मोबाईल फोन को ऑन रखना सुनिश्चित करेंगे ताकि सीविजिल एप पर आने वाली शिकायत पर तुरंत कार्रवाई अमल में लाई जा सके। इसके साथ-साथ सभी अधिकारी चुनावों से सम्बन्धित सभी तैयारियों को पूरा करना सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने डीएससी, लॉजिकल डाटा के बारे में फीडबैक लेते हुए कहा कि सभी अधिकारी अपने-अपने जिलों के सेक्टर अधिकारियों को विशेष ट्रेनिंग दें। उन्होंने सभी उपायुक्तों को निर्देश दिए की चुनाव डयूटी के दौरान किसी भी कर्मचारी की डबल डयूटी नहीं लगाई जाए। बैठक में श्री रंजन ने यह भी बताया कि नामांकन के समय सामान्य श्रेणी के उम्मीदवार को 25 हजार रुपये तथा अनुसूचित जाति व जनजाति के उम्मीदवार को 12 हजार 500 रुपये की नामांकन फीस देनी होगी। इसके अलावा सभी प्रत्याशी फॉर्म नम्बर-26 के सभी कॉलम को भर कर देंगे। कोई भी कॉलम खाली छोडऩे पर आवेदन पत्र रद्द हो जाएगा। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी का नाम व चुनाव चिह्न के साथ-साथ प्रत्याशी का फोटो भी प्रकाशित किया जाएगा ताकि मतदाता को अपने मताधिकार का प्रयोग करते समय किसी प्रकार की कोई कठिनाई न आए। उन्होंने कहा कि प्रत्याशियों द्वारा किये जाने वाले वाले प्रचार के लिए जिला प्रशासन द्वारा स्थान निर्धारित कर दिये जाएं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सभी उपायुक्तों से 72 घंटों में हटवाएं गए अवैध पोस्टर व होर्डिग्स के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने यह निर्देश भी दिए कि जिलों में डिस्टरलियों पर विशेष नजर रखी जाएं। श्री रंजन ने अधिकारियों को निर्देष देते हुए कहा कि चुनाव के समय शराब की बिक्री व सप्लाई पर विशेष ध्यान रखें। इस कार्य की निगरानी के लिए अलग से कमेटी गठित की जाए, जो समय-समय पर निरीक्षण कर अवैध शराब की बिक्री व सप्लाई पर अंकुश लगाएगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि सभी लाईसेंस धारकों के हथियार अतिशीघ्र जमा करवा लिए जाए और चुनाव सम्पन्न होने तक कोई भी व्यक्ति कहीं भी हथियार लेकर घूमता नजर न आने पाएं। उन्होंने कहा कि जिला के सभी एआरओ, सैक्टर मजिस्ट्रेट, सुपरवाईजर और पोलिंग अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाए। सभी पोलिंग केन्द्रों का निरीक्षण करके वहां दी जाने वाली सभी आवश्यक सुविधाओं को सुनिश्चित किया जाएं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि सभी जिलों में उन मतदान केंद्रों पर स्वीप (सिस्टेमैटिक वोटर्स एजुकेशन एंड इलेक्टोरल पार्टिसिपेशन) गतिविधियां चलाकर मतदान के प्रति आमजन को अधिक से जागरूक किया जाए जहां पिछले चुनाव में मतदान प्रतिशत कम था। उन्होंने कहा कि चुनाव के लिए एनसीसी व एनएसएस के युवाओं को वोलेंटियर्स बनाया जाए ताकि मतदान में इनका सहयोग लिया जा सके। इसी प्रकार नेत्रहीन व अन्य दिव्यांगजनों के लिए जरूरत के अनुसार परिवार के ही किसी सदस्य को सहायक के रूप में नियुक्त किया जाए ताकि वे आसानी से मतदान कर सकें। रंजन ने कहा कि सभी बूथों की सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जाएगी। प्रत्येक मतदान केंद्र पर यह भी लिखवाया जाए कि आप कैमरे की नजर में हैं। मतदान केंद्र पर नियुक्त अधिकारियों-कर्मचारियों के साथ-साथ यहां दौरा करने वाले अन्य अधिकारियों की गतिविधियां भी कैमरे में रिकॉर्ड होंगी जिसकी आयोग द्वारा निगरानी की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में हर लोकेशन पर माइक्रो ऑब्जर्वर नियुक्त किए जाएं और मोबाइल नंबर सहित इनका पूरा विवरण आयोग की साइट पर अपलोड किया जाए। उन्होंने सी विजिल पर आने वाली शिकायतों की भी समीक्षा की और अधिकारियों को तय समय सीमा के भीतर इनके समाधान के निर्देश दिए।