• 7/24/2019

मुख्य खबर

Share this news on

कैमिस्ट का एक नोबल व्यवसाय, समाज को सेहतमंद रखने में निभाती है अपनी भूमिका: डॉ. मलिक

Rohit Aswal

/

4/1/2019 10:18:41 PM

चंडीगढ़, 1 अप्रैल । शहीद परिवार सम्मान समिति के प्रधान एवं हरियाणा के पूर्व पुलिस महानिदेशक डॉ. महेंद्र सिंह मलिक ने केंद्र व राज्य सरकारों, विशेषकर पंजाब, हरियाणा व चंडीगढ़ में सेवारत ड्रग्स अधिकारियों की सुरक्षा की मांग की है। इन अधिकारियों, जिनमें महिलाओं की संख्या बहुतायत है, को ईमानदारी से उतरदायित्व निभाने के लिए सुरक्षा की नितांत आवश्यकता है। डॉ. मलिक ने कहा कि कैमिस्ट का एक नोबल व्यवसाय है जो समाज को सेहतमंद रखने में अपनी भूमिका निभाता है। क्योंकि इस व्यवसाय में सारा कार्य रसायनों का ही है और जिसका पूर्ण ज्ञान भी इन्हें होता है। इस व्यवसाय की आड़ में कुछ असामाजिक लोग ड्रग्स का अवैध धंधा भी करते हैं जो कि समाज हित में नहीं है। विषम परिस्थितियों में ड्रग्स अधिकारियों को अकेले कार्य करना पड़ता है। इस विभाग में स्टॉफ और सुरक्षा की काफी कमी है। इन अधिकारियों का कई बार खुंखार अपराधियों से भी पाला पड़ता है। ऐसे में इन अधिकारियों की सुरक्षा का समाज के साथ केंद्र व राज्य सरकारों का भी उत्तरदायित्व बनता है। शहीद परिवार सम्मान समिति के प्रधान डॉ. मलिक ने खरड़ में ड्रग्स अधिकारी डॉ. नेहा शौरी को श्रद्घासुमन अर्पित किए। वे वीर सैनिक कैप्टन कैलाश शौरी की पुत्री थी। कैलाश शौरी के अधिकारी की अवधि वर्ष 1971 में डॉ. महेंद्र सिंह मलिक बंगलादेश में मुक्तिवाहिनी के साथ पाक सैनिकों का अभूतपूर्व आत्मसमर्पण करवाने तथा खुंखार अपराधी लालडेगा जैसों को पकडऩे में महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुके हैं। डॉ. मलिक ने कहा कि शहीद परिवार सम्मान समिति ऐसे परिवारों के सम्मान हेतु सदा सजग है तथा इस दुख की घड़ी में शोक संतप्त परिवार के साथ खड़ी है। उन्होंने कहा कि इन ड्रग्स अधिकारियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए तथा इनके द्वारा ड्रग्स बेचने के लिए चिन्हित किए गए कैमस्टिों के लाईसेंस रद्द किए जाएं। ज्ञात रहे कि अखिल भारतीय ड्रग्स अधिकारी संघ के सचिव रवि उदय भास्कर भी ड्रग्स अधिकारियों की सुरक्षा के लिए सरकारों से गुहार लगा चुके हैं। डॉ. मलिक ने उदय भास्कर की मांग का समर्थन करते हुए ड्रग्स अधिकारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की है।