• 7/24/2019

मुख्य खबर

Share this news on

समर्थन मूल्य पर सरसों की ख़रीद की हर पल होगी निगरानी : प्रो चौहान

Image

Rohit Aswal

/

4/1/2019 10:21:51 PM

घरौंडा/करनाल, 1 अप्रेल। सरसों की सरकारी खरीद पर सरकार के साथ-साथ जागरूक नागरिकों के माध्यम से भी सतत निगरानी करते हुए यह सुनिश्चित किया जाएगा कि किसानों के हितों की रखवाली हर हाल में हो। हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष और भाजपा नेता प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान ने स्थानीय अनाज मंडी में खरीद प्रक्रिया का जायजा लेने के बाद किसानों और आढ़तियों के साथ संवाद में यह टिप्पणी की।इस अवसर पर घरौंडा मार्केट कमेटी के उपाध्यक्ष सुरेंद्र जैन और मंडी एसोसिएशन के नवनिर्वाचित अध्यक्ष सुशील गर्ग उनके साथ थे। प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि सरकार द्वारा निर्धारित समर्थन मूल्य पर सरसों की खरीद की प्रक्रिया शुरू होने के 2 दिन के भीतर घरौंडा खरीद केंद्र पर बिक्री हेतु आई 1100 क्विंटल सरसों नेफेड के लिए हैफेड द्वारा खरीदी गई। उन्होंने बताया कि जिन किसानों ने अपनी सरसों की फसल का पंजीकरण ई मार्केटिंग प्रणाली के तहत करवाया गया है उनकी फसल की खरीद हर अवस्था में सुनिश्चित की जाएगी। क्योंकि करनाल जिले में सरसों का उत्पादन बहुत ज़्यादा नहीं होता इसलिए पूरे जिले के लिए घरौंडा मंडी को ही ख़रीद केंद्र बनाया गया है। बिक्री के लिए सरसों लाने वाले किसानों को मंडी के गेट पर ही ई-पास देने की व्यवस्था की गई है। वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि सारी प्रक्रिया पर कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के आला अधिकारियों के अलावा स्थानीय प्रशासन में उपायुक्त विनय प्रताप सिंह की अगुआई में सरकारी अमला निगाह रखे हुए है। वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि इस मामले में नागरिक निगरानी भी आवश्यक है। सब लोग व्यापक जनहित में इस कार्य में ‘चौकीदारी’ करें तो किसी की भी गड़बड़ी करने की हिम्मत नहीं होगी। मार्केट कमेटी उपाध्यक्ष सुरेंद्र जैन ने इस अवसर पर कहा कि सरकार को प्रति एकड़ ख़रीद की सीमा साढ़े छह क्विंटल से बढ़ा कर कम से कम दस क्विंटल करनी चाहिए क्यूँकि प्रति एकड़ उत्पादन में हाल ही के वर्षों में इज़ाफ़ा हुआ है। मंडी एसोसिएशन के प्रधान सुशील गर्ग ने ख़रीद प्रक्रिया में आढ़तियों की प्रत्यक्ष भूमिका सम्बंधी मुख्यमंत्री की घोषणा को अमल में लाने की माँग की। इस पर प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि ख़रीद प्रक्रिया में आढ़तियों की भूमिका और उनके पारिश्रमिक सम्बंधी पत्र मार्केट कमेटी को प्राप्त हो चुका है। प्रति एकड़ ख़रीद सीमा के मामले में ज़िला स्तर पर अधिकारियों के एक कमेटी बनायी जा चुकी है जिसकी सिफ़ारिश जल्द राज्य सरकार को भेज दी जाएगी। कार्यक्रम में मण्डी सुपरवाइजर ओमप्रकाश जागलन, मण्डी सुपरवाइजर अशोक शर्मा, हाफेड इंस्पेक्टर सुरेंदर, हाफेड इंस्पेक्टर ईश्वर, नाफेड इंस्पेक्टर (दिल्ली ) चौहान, मंडी आड़ती-पवन गुप्ता, मण्डी आड़ती-शिवदयाल, मण्डी आड़ती - महेन्द्र गर्ग, मण्डी आड़ती- ईश्वर गुप्ता व किसान- महासिंह बल्ला आदि उपस्थित थे ।