• 4/23/2019

मुख्य खबर

Share this news on

फोर्टिस ने स्टूडेंट्स के लिए पर्यावरण पर एक विशेष कार्यशाला का किया आयोजन

Image

Manoj Sharma

/

4/15/2019 8:38:52 PM

मोहाली, 15 अप्रैल । फोर्टिस हेल्थकेयर के मेंटल हेल्थ एंड बिहेवरियल साइंसिज (मानसिक स्वास्थ्य और व्यवहार विज्ञान) विभाग ने पर्यावरण की देखभाल पर सोमवार को एक विशेष कार्यशाला आयोजित की गई। प्रोसोशल पीयर मॉडरेटर प्रोग्राम के तहत आयोजित इस कार्यशाला का संचालन डॉ.समीर पारिख के मार्गदर्शन में किया गया। इसका उद्देश्य लोगों और उनकी प्राकृतिक दुनिया के बीच भावनात्मक संबंध का विस्तार करना है ताकि सभी जीवन कौशल शिक्षा से सबक लेते हुए उनको जीवन विकल्प बनाने में सक्षम बनें। प्रोसोशल पीयर मॉडरेटर प्रोग्राम, फोर्टिस स्कूल मेंटल हेल्थ इनिशिएटिव, की एक पहल है और ये एक एप्लीकेशन-आधारित जीवन कौशल कार्यक्रम है। कार्यशाला में एक साथी मार्गदर्शक मॉडल का अनुसरण किया गया है जिसमें देश भर के स्कूलों के स्टूडेंट्स को पर्यावरण के लिए राजदूत बनने के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है और अपने स्कूलों के सहपाठी स्टूडेंट्स के साथ इसी तरह के सेशन आयोजित किए जाते हैं। प्रोसोशल पीयर मोडरेटर प्रोग्राम एनसीआर, मोहाली, लुधियाना, जयपुर, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई और कोलकाता में संचालित किया जा रहा है। अभिजीत सिंह, जोनल डायरेक्टर, फोर्टिस मोहली ने कहा कि ‘‘मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों के रूप में, हम प्रकृति से लोगों की सहभागिता और करीबी संबंधों के महत्व को समझते हैं। हमारा प्रयास रहा है कि पर्यावरण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए पारिस्थितिकीय विज्ञान (इकोसाइकोलॉजी)के क्षेत्र से गहन सोच का उपयोग करें और छोटे बच्चों को प्रेरित करें। हमने एक अभियान #हैप्पीअर्थहैप्पीपीपुल को शुरू किया है क्योंकि हमारा मानना है कि संपूर्ण स्वस्थता और पर्यावरण का निकट संबंध है।’’ इस कार्यशाला के एक भाग के रूप में, स्टूडेंट्स ने अस्पताल परिसर में पौधे लगाए। छात्रों को अपने घरों या स्कूल के आसपास के क्षेत्र में एक पौधे को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया गया, उसका ध्यान रखें और अधिक जागरूकता पैदा करने के लिए इस प्रयास को सोशल मीडिया में शेयर करें। बच्चों ने प्रौद्योगिकी पर अपनी निर्भरता को कम करने के लिए एक साप्ताहिक डिजिटल डिटॉक्स के लिए भी प्रतिबद्धता की। फोर्टिस अस्पताल मोहाली में आयोजित कार्यशाला के दौरान कई अलग अलग स्कूलों के 85 से अधिक स्टूडेंट्स ने हिस्सा लिया।