• 9/23/2019

मुख्य खबर

Share this news on

ड्रग्स के प्रति युवाओं को जागरुक करेगी राईडर्स पर आधारित फिल्म

Image

Preeti

/

4/18/2019 10:38:48 PM

चंडीगढ़, 19 अप्रैल। आमतौर पर लोग राईडर्स को एक नाकारत्मक नजरिये से देखते हैं जिसमें वे उन्हें ड्रग्स्टि, हाईवे क्रिमनल जैसी संज्ञा तक दे देते हैं परन्तु मुम्बई के एडवेंचरिस्ट व फिल्म मेकर अपनी एक फिल्म के माध्यम से लोगों तक संदेश देना चाहते हैं कि एक राईडर प्रकृति प्रेमी के साथ साथ लोगो को सजग करने में कई नेक कार्यो से जुड़ा हुआ है। वह समाज में जागरुकता फैलता है और नेक कार्यो के लिये फंड रेजिंग में सहायक होता है। फिल्म मेकर मनोज मौर्य आज हिमाचल प्रदेश की स्पिति की दुर्गम पहाड़ियों को दौरा कर अपने बारह राईडर किरदारों के साथ चंडीगढ़ पहुंचे । उनका सिर्फ एक ही मकसद् है कि इस राईडिंग जैसे उभरते हुये पैशन को लोग बेहतरीन तरीके के स्वीकारें । 2015 से पूरे देश का भ्रमण कर चुके ऑल इंडिया ट्रिप्स सीरिज पर मनोज अब तक पांच डाक्यूमेंटी और छह शार्ट फिल्में बना चुके हैं और अब वे दिल्ली से स्पिति तक शुरु हुये अपने एडवेंचर प्रेमी राईडर्स किरदारों के साथ ‘आईस केक’ नामक फिल्म तैयार कर रहे हैं जो कि अगस्त तक पूरी कर ली जायेगी। यह किरदार नॉन एक्टर व नॉन सेलिब्रेटी बाईकर्स हैं जो समाज के अलग अलग तबके से जुड़े हैं । कोई व्यावसायी है तो कोई पास आउट स्टुडेंट हो तो कोई नौकारी पेशा है जिनकी उम्र 22 से 55 वर्ष तक की है। मनोज ने बताया कि कि इस फिल्म में तीन महिला राईडर्स ने भी निर्भकता से काम किया है । यह फिल्म राईडर्स की जीवन को उकेरने के साथ साथ सहासिक और मनोरंजक फिल्म है। मनोज इसी के साथ साथ दो अन्य फिल्में ‘हाफ पेयर’ (हिन्दी) और जर्मन फिल्म ‘बोईंग’ पर भी काम कर रहे है जिसका शूट जल्द की प्रारम्भ होने वाला है।