• 6/17/2019

मुख्य खबर

Share this news on

बाल मज़दूरी के मुकम्मल ख़ात्मे के विरुद्ध 12 से 21 जून तक राज्य स्तरीय चलेगी मुहिम: बलबीर सिंह सिद्धू

Preeti

/

6/12/2019 8:02:59 PM

चंडीगढ़, 12 जून। पंजाब में बाल-मज़दूरी को जड़ से ख़त्म करने के लिए श्रम मंत्री स. बलबीर सिंह सिद्धू द्वारा विभाग के सहायक श्रम कमीश्नरों डिप्टी डायरैक्टर फैक्ट्रीज़ को हिदायतें जारी की गई हैं कि ‘बाल मज़दूरी के विरुद्ध विश्व दिवस’ के मौके पर पूरे राज्य में बच्चों की सुरक्षा और अधिकारों के लिए विशेष मुहिम चलाई जाये। इस मुहिम के अधीन बाल और किशोर मज़दूरी प्रथा के विरुद्ध 12 जून से 21 जून तक जो संस्था बाल मज़दूरी करवाते पकड़े जाएंगे उनके विरुद्ध तुरंत सख्त कार्यवाही की जाये। इस सम्बन्धी और जानकारी देते हुए श्रम मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने बताया कि 12 जून को दुनिया भर में ‘बाल मज़दूरी के विरुद्ध विश्व दिवस’ मनाया जाता है। इस दिन का मकसद है कि 14 साल से कम उम्र के बच्चे किसी फैक्ट्री, दुकान या किसी अन्य ख़तरनाक संस्थाओं में काम न करें। ‘‘चाइल्ड एंड अडोलोसैंट लेबर (प्रोहीबिशन एंड रैगूलेशन) एक्ट 1986’’ के अनुसार केंद्र सरकार द्वारा स्टैंडिंग ऑपरेटिंग प्रोसीजर जारी करते हुए जि़ला स्तर पर जि़ला टास्क फोर्स का गठन किया गया है। सरकार द्वारा टास्क फोर्स में श्रम विभाग, स्वास्थ्य विभाग, सामाजिक सुरक्षा, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग और पुलिस विभाग बतौर मैंबर शामिल किये गए हैं। इन विभागों द्वारा मिलकर संयुक्त तौर पर छापेमारी की जाती है। श्रम मंत्री ने आगे बताया कि जि़ला टास्क फोर्स को सख्त हिदायतें की गई हैं कि स्टैंडिंग ऑपरेटिंग प्रोसीजर पर अमल करते हुए राज्य के सभी ख़तरनाक और ग़ैर-ख़तरनाक संस्थाओं में से संपूर्ण तौर पर बाल मज़दूरी के विरुद्ध कार्यवाही की जाये। जिसके लिए राज्य स्तरीय मुहिम के अंतर्गत राज्य में 12 जून से 21 जून के दौरान प्राप्त होने वाली शिकायतें या किसी एन.जी.ओ. द्वारा किये गए सर्वे के आधार पर बाल मज़दूरी रैसक्ऊ ऑप्रेशन किये जाएँ। उन्होंने बताया कि छापेमारी के दौरान छुड़ाए गए बाल मज़दूरों का मैडीकल करवाने के उपरांत बाल कल्याण कमेटी को सौंप दिया जाता है। पिछले 2 सालों के दौरान कुल 25,066 छापेमारियां की गई और कुल 612 बच्चे रैसक्ऊ करवाए गए और दोषियों पर 22,11,200 रुपए का जुर्माना 2 सालों में किया गया। उन्होंने आगे बताया कि बाल मज़दूरी को ख़त्म करने के लिए जि़ला स्तर पर जागरूकता कैंप लगाए जाते हैं। विभाग द्वारा 3 जिलों में रैसक्ऊ किये गए बाल मज़दूरों के लिए नेशनल चाइल्ड लेबर प्रोजैक्ट के अधीन 97 स्कूल खोले गए हैं। इन स्कूलों में पढ़ाई के साथ-साथ स्किल डिवैल्पमैंट का प्रशिक्षण भी दिया जाता है।