• 2/28/2020

मुख्य खबर

Share this news on

बजट घाटे को संतुलित रखते हुए अर्थव्यवस्था का पुनरूद्घार करने का रास्ता निकालने वाला: सीआईआई अध्यक्ष

Varsha

/

2/1/2020 9:49:50 PM

नई दिल्ली, 1 फरवरी । सीआईआई के अध्यक्ष विक्रम किरलोस्कर ने कहा कि वित्त मंत्री के लिए निवेश और खपत को बढ़ाने हेतू उच्च सरकारी व्यय की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए तथा बजट घाटे को संतुलित रखना मुश्किल कार्य था। उन्होंने कहा कि इन सब के बीच फिसिकल रिस्पोंसिबिलिटी एंड बजट मैनेजमेंट एक्ट के बंधनों के बावजूद वित्त मंत्री ने सभी प्राथमिकताओं को ध्यान में रखते हुए वह कर दिखाया। कृषि क्षेत्र से जुड़ी घोषणाओं से खास तौर पर मॉडल लॉ अपनाने वाले राज्यों को प्रोत्साहित करके कृषि सुधारों को अपनाने की प्रक्रिया आरंभ होगी जिससे न केवल किसानों को बेहतर रिटर्न मिलेंगे बल्कि साथ ही कृषि क्षेत्र की ओर निजी क्षेत्र का झुकाव बढ़ेगा। इंफ्रास्ट्रक्चर पर सरकार द्वारा की गई घोषणा का जिक्र करते हुए किरलोस्कर ने कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र हमेशा ही सरकार की प्राथमिकता रहा है। नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर पाईपलाईन के तहत ट्रांसपोर्ट क्षेत्र और रेलवे पर ध्यान केंद्र करने से न केवल रोजगार के अवसर पैदा होंगे बल्कि साथ ही उद्योगों की उत्पादकता और दक्षता में भी बढ़ावा होगा। आईआईएफसीएल और एनआईआईएफ को स्पोर्ट करने के लिए 22000 करोड़ का इक्विटी सपोर्ट की घोषणा की गई है ताकि 103000 लाख करोड़ की फंडिंग पाईप लाईन तैयार की जाए सके। साथ ही इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में निवेश की स्थिति में सोवेरिजन वेल्थ फंड में ब्याज, डिविडेंट और कैपिटल गेन इनकम पर 100 प्रतिशत की छूट का निर्णय फंडिंग इंफ्रास्ट्रक्चर क्रिएशन के लिए बेहद अहम होगा। विनिर्माण क्षेत्र में विशिष्ट क्षेत्रों को विकसित करने पर सरकार के दृष्टिकोण का स्वागत योग्य कदम है। किर्लोस्कर ने कहा कि आने वाले समय में इस तरह के कदमों की उम्मीद रहेगी, जैसा कि आर्थिक सर्वेक्षण द्वारा भी सिफारिश की गई है। प्रस्तावित राष्ट्रीय रसद नीति और बिजली उत्पादन में 15 प्रतिशत कॉर्पोरेट कर का विकल्प विनिर्माण से जुड़ी पहलों का समर्थन करेगा। बाहरी मोर्चे पर विभिन्न एफटीए के तहत उत्पत्ति के नियमों की समीक्षा करते हुए भारतीय उद्योगों के की समस्याओं का समाधान किया जाएगा। केंद्रीय बजट 2020 घरेलू और वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंदी के दौर में आया है फिर भी इसमें बड़े सुधारों का सिलसिला जारी रहा, जो सरकार ने पिछले साल अगस्त से शुरू किए हैं। सीआईआई बजट घोषणाओं के बाद भी सुधार प्रक्रिया जारी रखने की उम्मीद रखता है।