• 2/28/2020

मुख्य खबर

Share this news on

गुरुकुल की शिक्षा प्रणाली प्राचीन समय से ही चली आ रही: दुष्यंत

Rohit Aswal

/

2/8/2020 9:40:10 PM

चंडीगढ़, 8 फरवरी । प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि गुरुकुल की शिक्षा प्रणाली प्राचीन समय से ही चली आ रही है। गुरुकुल की शिक्षा पद्धति हमारी संस्कृति और हमारे विचारों को भी शुद्ध करते हैं। गांव रुडक़ी की पावन धरा पर चल रहे इस कन्या गुरुकुल में हमारी बहने और बेटियां अच्छे संस्कार प्राप्त कर भविष्य में आगे बढ़े यही मेरी कामना है। उप मुख्यमंत्री रोहतक के गांव रुडक़ी में विश्ववारा कन्या गुरुकुल में आयोजित सम्मान समारोह में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आधुनिक युग में गुरुकुल में दी जा रही शिक्षा पद्धति के परिणाम स्वरुप ही आज गुरुकुल में पढने वाले विद्यार्थी बहुत बड़े-बड़े पदों पर विराजमान है। आज गुरुकुल के विद्यार्थी आईएएस, आईपीएस आदि पदों पर चयनित होकर गुरुकुल की शिक्षा प्रणाली को बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि मैं यहा इस संख्या में पढ़ रही कन्याओं को देखकर बहुत ही प्रसन्न हूं और आशा करता हूं की आगे जाकर यह गुरुकुल बहुत तरक्की करेगा और इसमें छात्राओं की संख्या बढ़ेगी। उप मुख्यमंत्री ने गुरुकुल में खेलों को बढ़ावा देने के लिए टेबल टेनिस के इक्विपमेंट उपलब्ध करवाने की घोषणा की और कहा कि आने वाले समय में आर्चरी के खेल को बढ़ावा देने के लिए इस गुरुकुल में तीरंदाजी के लिए सामान भी उपलब्ध करवावूंगा। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि इस गुरुकुल में शिक्षा प्राप्त कर रही छात्राएं आने वाले समय में तीरंदाजी के खेल में में देश का नाम रोशन करेंगीं।