• 9/24/2018

मुख्य खबर

Share this news on

'कदम एक पहल' ने स्त्रीत्व के सम्मान में अनूठा फैशन शो आयोजित

Image

Varsha

/

3/17/2018 10:59:59 PM

चंडीगढ़, 17 मार्च। सौंदर्य देखने वाले की नज़र में होता है- इस विचार की सार्वभौमिकता और प्रामाणिकता में विश्वास प्रकट करते हुए, अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर, रॉयल ऑरा ईवेंट्स, आई एम स्टिल ह्यूमन और जीआईडी प्लानर्स ने संयुक्त रूप से, 'कदम एक पहल वुमेन ऑफ वर्थ अवार्ड्स ' कार्यक्रम का आयोजन किया। श्री राकेश कुमार रेखी के सहयोग से 'कदम एक पहल ' के तहत चंडीगढ़ में पहली बार तेज़ाब हमला पीडि़त महिलाओं का एक रैम्प वॉक हुआ।  यह फैशन शोज के परंपरागत स्वरूप से इस मायने में अलग रहा कि इसमें हाई डेसिबल म्यूजिक की जगह बैकग्राउंड में कविताएं सुनायी दे रही थीं। वॉक  में लखनऊ और आगरा की पांच एसिड अटैक सर्वाइवर्स ने भाग लिया।  इस अद्वितीय ईवेंट के मौके पर, बहादुर एसिड अटैक सर्वाइवर्स ने मीडिया से भी बातचीत की। इनमें लखनऊ की फराह और कुन्ती तथा आगरा की रुकैया मौजूद थीं। मिसेज पंजाबन 2017 गुरलीन पुरी ने अपूर्व साहस के लिए इन एसिड अटैक सर्वाइवर्स को सम्मानित किया। आयोजकों में से, 'आई एम स्टिल ह्यूमन ' के विवेक मेहरा, 'रॉयल ऑरा ईवेंट्स ' की अनमोल हरपुनीत कौर व अभिषेक सूद तथा 'जीआईडी प्लानर्स ' के हेमंत मलिक भी प्रेस मीट में उपस्थित थे। लखनऊ की फराह ने एसिड हमले से बचने की अपनी कहानी मीडिया के साथ साझा की। फराह ने कहा, 'इस घटना के बाद मैं अपने करीबी और प्रियजनों के प्रेम और प्रोत्साहन से ही उबर पायी। धीरे-धीरे मुझमें विश्वास आता गया कि एक महिला के अस्तित्व के लिए बाहरी सौंदर्य ही सब कुछ नहीं होता। एक महिला के वज़ूद के लिए अन्य अनेक पहलू भी हैं।' आगरा की एक सर्वाइवर, रुकैया ने कहा, 'किसी लडक़ी के जीवन में इस तरह की अपूरणीय क्षति पैदा करने में किसी को मात्र दो सेकेंड लग सकते है, लेकिन मुझे लगता है कि अपने आत्मविश्वास के बल पर ही मैं अपने जीवन की इस चुनौती का सामना कर सकी हूं। ' मिसेज पंजाबन 2017, गुरलीन पुरी ने कहा, 'मेरा शुरू से ही मानना रहा है कि असली सुंदरता हमारे अंदर होती है न कि बाहरी रूप रंग में, और इन प्यारी लेडीज ने यह साबित कर दिखाया है। मैं इस तारीफे काबिल काम के लिए आयोजकों की सराहना करती हूं। ' 'हर कोई सुंदर है, लेकिन हर कोई इसे देख नहीं पाता है ' , इस नजरिये में दृढ़ विश्वास रखते हुए, जीआईडी प्लानर्स के हेमंत मलिक ने समाज से आग्रह किया कि तेजाब हमला पीडि़तों की इसलिए अनदेखी न करें, क्योंकि वे अलग दिखती हैं। उनका मानना है कि ये युवतियां भी भारत का उसी तरह प्रतिनिधित्व करती हैं, जैसा कि किसी अन्य अंतरराष्ट्रीय सौंदर्य प्रतियोगिता के प्रतियोगी करते हैं।  'आई एम स्टिल ह्यूमन ' के संस्थापक, विवेक मेहरा ने कहा, 'इस ईवेंट के बारे में तीन साल पहले सोचा गया था और अब इसके परिणाम बहुत अच्छे रहे हैं। ये लड़कियां हमेशा ही समाज में अपनी स्वीकृति के लिए लड़ती आयी हैं और इनके साथ काम करना वास्तव में एक संतोषजनक अनुभव रहा है। मैं इसे इस महान अवसर मानता हूं कि मैं इनकी जीवन यात्रा में थोड़ा सा योगदान कर सका हूं। ' रॉयल ऑरा ईवेंट्स की अनमोल हरपुनीत कौर ने कहा, 'हम इन महिलाओं को सम्मानित कर रहे हैं क्योंकि इन्होंने सचमुच की कहानियां सामने रखी हैं। इन्हें देख कर भरोसा पैदा होता है कि महिलाओं की शक्ति कायम रहेगी और यह संदेश देने के लिए भी कि समाज में महिलाओं को पूरा सम्मान मिलना चाहिए। एसिड हमले में बची युवतियों को व्यक्तिगत रूप से आमंत्रित करने के लिए हमने 14 मार्च को श्री रजनीश सिंह त्रिखा के नेतृत्व में पंचकूला से आगरा तक एक बाइक रैली भेजी थी। यह ईवेंट स्त्रीत्व के प्रति सम्मान प्रकट करने और तेज़ाब हमले जैसे जघन्य अपराध की शिकार होकर भी आगे बढऩे का साहस दिखाने वाली युवतियों की हिम्मत का जश्न मनाने के लिए आयोजित की गयी है। ' एसिड हमले की शिकार हो चुकी लड़कियों ने बहुत ही सौम्यता के साथ रैम्प पर चल कर दिखाया। बैकग्राउंड में सुनायी दे रही हृदय को छूने वाली कविता की रचना चंडीगढ़ की एक उभरती कवियत्री सौम्या जोशी ने की थी। इस नये कांसेप्ट ने दर्शकों का ध्यान आकर्षित किया। रैम्प पर चलने के लिए एथनिक वस्त्रों का चयन किया गया था। समाज को अपना योगदान देने के लिए इन सर्वाइवर्स को सम्मानित किया गया। दर्शकों एवं अतिथियों के मनोरंजन के लिए, गायक सनी डॉलर ने अपनी एक जोशपूर्ण परफॉर्मेंस दी।  ईवेंट को दर्शकों की अत्यधिक सराहना मिली और हर उम्र के लोगों ने इसमें भाग लिया। इस आयोजन ने समाज में महिलाओं के महत्व को चिन्हित किया और उनको सम्मान देने की आवश्यकता पर बल दिया। एसिड हमले से बची युवतियों ने अपनी हिम्मत से यह साबित कर दिया है कि वे ही आज की वास्तविक सेलिब्रिटी और हीरोइनें हैं।