• 5/25/2018

मुख्य खबर

Share this news on

हंगामे के बीच स्थगित हुई बैठक, करोड़ों के प्रस्ताव लटके

Image

Chandigarh

/

7/31/2017 1:05:08 AM

चंडीगढ़। नगर निगम की शुक्रवार को हुई सदन की बैठक में दो घंटे तक पार्षद सिर्फ हंगामा करते रहे और हंगामें के बीच ही बैठक को स्थगित कर दिया गया, जिसके चलते करोड़ों रूपए के प्रस्ताव बीच में ही लटक गए। बैठक की शुरूआत से ही कांग्रेसी पार्षदों ने पानी के मुद्दे पर हंगामा करना शुरू कर दिया। कांग्रेसी पार्षद हरफूल चंद्र कल्याण व सुभाष चावला ने कहा कि जून माह में तो पानी की किल्लत हर साल सामने आती है, लेकिन जिस तरह से अप्रैल में ही पानी की किल्लत होनी शुरू हो गई हैं, ये चिंता करने का विषय है, इसलिए मेयर को इस संबंध में जवाब देना चाहए कि उन्होंने पानी की किल्लत को रोकने के लिए क्या प्रया किए। बैठक में कार बाजार का मुद्दा भी उठा, जिसमें कि मनोनीत पार्षद सु्रिंद्र बाहगा ने कार बाजार रविवार को मल्टी लेवल पार्किंग में भी लगाने का सुझाव दे डाला। इसस पहले मिनट्स पर चर्चा के दौरान राजेश गुप्ता ने कहा कि मिनट्स गलत रिकार्ड हुए हैं, इनमें उन बातों को शामिल किया गया, जिन पर चर्चा ही नहीं हुई। इस पर मेयर ने कहा कि कार डीलर्स बता दें कि हल्लोमाजरा के अलावा उन के लिए कौन सी अनुकूल जगह हैं, वहां पर भी कार बाजार सिफ्ट करने पर विचार किया जाएगा। पार्किंगें बंद करने को लेकर कांग्रेस का हंगामा : इसके अलावा सैक्टर-17 की दो साहिब सिंह व इ पायर स्टोर पार्किंग बंद करने के विरोध में कांग्रेसी पार्षदों ने रोष प्रदर्शन किया। इस संबंध में 9 पार्षद टेबवल एजैंडा भी लेकर आए और उसे निगम सदन की बैठक में लाने की मांग की गई, लेकिन मेयर ने पहले पानी की चर्चा करने पर राजी हो गए, जिसके चलते कांग्रेसी पार्षदों ने पहले पार्किंग के मुद्दे पर चर्चा करने को लेकर हंगामा किया, इस दौरान बैठक को बीच में ही स्थगित कर दिया गया। ये करना था बैठक में : मेयर ने कहा कि उन्होंने गांव हल्लोमाजरा, कजहेड़ी, पलसौरा, मलोया व डड्डूमाजरा में कमर्शियल प्रोपर्टी पर टैक्स लगाने से छुट दिलानी थी, क्योंकि इन गावों में हाउस टैक्स नहीं है, इसलिए प्रस्ताव पास करके की योजना थी कि इन्हें कमर्शियल प्रोपर्टी पर टैक्स से भी छूट दी जानी चाहिए। इसके अलावा मेयर ने कहा कि पंजाब से फेज-5,6 से पानी लेने के लिए जमीन एक्वायर करने का पंजाब सरकार ने नोटीफिकेशन जारी कर दिया है, क्योंकि इसके लिए सैक्टर-39 वाटर वर्कस तक पाईप लाईन डाली जानी है। मेयर ने कहा कि 15 साल बाद मिली हार से बोखलाए कांग्रेसी पार्षद इस तरह से हंगामा कर रहे हैं, क्योंकि उन्हें हार पच नहीं पा रही है। मेयर ने कहा कि जर्मनी टूर का पूरा खर्च जर्मनी सरकार द्वारा उठाया जा रहा है। ये सात दिन का टूर है और वहां कांफ्रेस में हिस्सा लेने के लिए 1 मई को जाकर 7 मई को वापिस आना है। शहर में पानी की किल्लत को लेकर महिला कांग्रेस ने शुक्रवार को सदन की बैठक के दौरान नगर निगम कार्यालय के बाहर रोष प्रदर्शन किया। इस दौरान खाली घड़े लेकर महिला कांग्रेसी कार्यकर्ता निगम कार्यालय पहुंची और उन्होंने निगम के मेन गेट के पास इन घड़ों को तोड़कर रोष प्रदर्शन किया। महिला कांग्रेस की अध्यक्षा मिनाक्षी चौधरी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी मात्र लोगों को झूठे सपने दिखाने में लगी हुई, जबकि लोगों की मूलभूत जरूरत पानी उन्हें मुहैया नहीं करवा रही है। उन्होंने कहा कि पानी की समस्या से निपटने के लिए मेयर कोई प्रयास नहीं कर रहे हैं, जिसके चलते मेयर के खुद के वार्ड में लोग पानी के लिए तरस रहे हैं। इसके अलावा नगर निगम द्वारा सैक्टर-17 की साहिब सिंह व इ पायर स्टोर पार्किंग बंद करने के लिए स्थानीय व्यापारियों ने रोष प्रदर्शन किया। व्यापारी नीरज ने कहा कि नगर निगम इन पार्किंगों को बंद कर रहा है, जबकि इससे उनका व्यापार प्रभावित होगा। उन्होंने कहा कि निगम इस पार्किंग के लिए उनका करोड़ों रूपए का व्यापार प्रभावित कर रहा है। इस दौरान व्यापारी मेयर से भी मिले। मेयर ने कहा कि ये प्रशासन का निर्णय है, इसलिए वे इसमें कुछ नहीं कर सकते हैं। बैठक के दौरान जमकर असंसदीय भाषा का भी प्रयोग हुआ। मेयर को ओय अरूण, बदत्मीज, सतीश कैंथ को छोटा भीम आदि शब्दों का भी इस्तेमाल किया गया, जबकि कांग्रेसी पार्षदों ने कहा कि मेयर ने बैठक में उनकी एक नहीं सुनी, जबकि हम उन्हें बड़े आदर स मान केसाथ संबोधित कररहे थे, लेकिन मेयर को ये स मान राज नहीं आया।