• 5/25/2018

मुख्य खबर

Share this news on

पंजाब में बायो-गैस और बायो-सीएनजी प्लांट होंगे स्थापित

Image

Varsha

/

5/11/2018 9:13:55 PM

चंडीगढ़, 11 मई। पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल और ब्रिटिश के चंडीगढ़ स्थित डिप्टी हाई कमिश्नर एंड्रयू अय्यर की उपस्थिति में रीका बायोफियूल डिवैल्पमैंट लिम. और पंजाब औद्योगिक प्रोत्साहन ब्यूरो और पंजाब ऊर्जा विकास एजेंसी के बीच एक अहम समझौता सहीबद्ध किया गया है। समझौते के अंतर्गत पंजाब में बायो गैस और बायो सीएनजी प्लांट लगाए जाएंगे जिससे पराली का सही प्रयोग करके वातावरण का संरक्षण किया जा सके। पराली को आग लाने की बजाय इसका प्रयोग कच्चे माल  के रूप में किया जाएगा और पराली से इन प्लांटों में गैस और सीएनजी बनाई जायेगी। विस्तृत जानकारी देते हुए एक प्रवक्ता ने बताया कि रीका कंपनी द्वारा सूबे में 100 -150 मिलियन अमरीकी डालर के निवेश के साथ 10 के करीब प्लांट लगाने की योजना है जिससे कि 1000 के करीब नौकरियाँ भी मुहैया होंगी। अत्याधुनिक तकनीक वाले इन प्लांटों में से पहला प्लांट 2019 में शुरू हो जाने की संभावना है। हरेक प्लांट में एक दिन में 100 मीट्रिक टन धान की पराली बर्ताव की सामथ्र्य होगी।  उन्होंने बताया कि इन प्लांटों से पंजाब की ज़मीनों की उपजाऊ शक्ति भी बढ़ेगी क्योंकि जब पराली को आग नहीं लगाई जायेगी तो इससे ज़मीन की क्वालिटी में सुधार होगा। इसके अलावा फसलों के अवशेष देसी खाद का काम करेगे जिससे उत्पादन बढऩे की संभावनाएं हैं। प्रवक्ता ने आगे बताया कि प्लांट स्थापित करने के लिए पंजाब सरकार ज़मीन की सीमा-रेखा में मदद करेगी और औद्योगिक नीति के अनुसार मिलने वाली सहूलतें और सहायता भी मुहैया करवाएगी। इस मौके पर रीका बायोफ्यूल कंपनी के डायरैक्टर ग्रेगरी कुरप्पनीकोवस ने इस समझौते पर ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा कि इस प्रोजैक्ट के द्वारा जहाँ पराली की आग से वातावरण को दूषित होने से बचाने में पंजाब सरकार की मदद की जायेगी वहीं पराली का भी सभ्य प्रयोग होगा। इस मौके पर दूसरो के अलावा पंजाब ऊर्जा विकास एजेंसी के सीईओ एनपीएस रंधावा, डिप्टी जनरल मैनेजर एम.पी. सिंह, मैनेजर सुखवंत सिंह, दविन्दर सिंह और इनवैस्ट पंजाब से अरुणजीत सिंह सिद्धू भी उपस्थित थे।