• 10/19/2018

मुख्य खबर

Share this news on

दर्द से राहत पाने के लिए घुटनों को बदलना एक सुरक्षित विकल्प: संदीप जिंदल

Image

Manoj Sharma

/

5/24/2018 11:34:14 PM

चंडीगढ, 24 मई। एलकेमिस्ट हॉस्पिटल द्वारा वीरवार को सीनियर सिटीजन वेलफेयर एसोसिएशन, मनीमाजरा की सहभागिता में वरिष्ठ नागरिकों के लिए जोड़ों को बदलने के संबंध में एक लेक्चर का आयोजन किया गया। इसमें 55 से अधिक वरिष्ठ नागरिकों ने हिस्सा लिया।  डॉ.संदीप जिंदल, ऑर्थोपेडिक सर्जन, एल्केमिस्ट अस्पताल द्वारा वरिष्ठ नागरिकों को संबोधित किया गया। लेक्चर के दौरान डॉ.जिंदल ने कहा कि घुटनों को बदलने की सर्जरी आमतौर पर तब जरूरी होती है जब घुटने के जोड़ इस हद तक क्षतिग्रस्त हो जाते हैं कि आपकी गतिशीलता कम हो जाती है और आप आराम करते समय भी दर्द का अनुभव करते हैं। लेक्चर में डॉ.संदीप जिंदल ने जोड़ों को बदलने के बारे में मिथकों और तथ्यों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि लोग सोचते हैं कि जोड़ों को बदलने की सर्जरी के बाद रोगी को लंबे समय तक अस्पताल में रहना पड़ता है लेकिन यह एक मिथक है। सर्जरी के बाद रोगी को केवल तीन से पांच दिनों के लिए अस्पताल में भर्ती कराया जाना चाहिए, हालांकि मरीज के पूरी तरह से ठीक  होने का समय प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग अलग होता है।  उन्होंने आगे कहा कि कुछ मरीजों को गलतफहमी रह्वहती है कि पूरे घुटने को बदलने की सर्जरी में पूरे घुटने को बदल दिया जाता है, लेकिन नए हिस्सों को डालने से पहले हड्डी का एक छोटा सा हिस्सा लिया जाता है।  डॉ. जिंदल ने कहा कि नीचे वर्णित समस्याओं का सामना करने वाले किसी भी व्यक्ति को सर्जंरी की जरूरत हो सकती है:- • घुटने के जोड़ों में गंभीर दर्द, सूजन और जड़ता, चलने फिरने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। • घुटने का दर्द इतना गंभीर है कि यह आपके जीवन की गुणवत्ता को खराब कर रहा है और आपकी नींद भी प्रभावित हो रही है। • रोजमर्रा के कामों में मुश्किलें पेश आना जैसे कि स्नान के बाद बाहर निकलना, काफी मुश्किल या असंभव हो जा। • यदि आप घुटने के जोड़ों के कारण अधिक चल फिर नहीं सकते और काम करने में असमर्थहैं या आपकी सामाजिक जिंदगी सामान्य नहीं रह गई है। उन्होंने कहा कि यह निर्धारित करने के लिए कोई विशिष्ट उम्र नहीं है कि एक मरीज कूल्हे या घुटनों को बदलने की सर्जरी के लिए पूरी तरह ये पात्र है या नहीं। इसके बजाए, निर्णय विकलांगता के स्तर और रोगी को होने वाले दर्द पर निर्भर करता है। अतीत में, जोड़ों को बदलने के लिए पाट्र्स का उपयोग किया जाता था।  यहां बताना उल्लेखनीय है कि एल्केमिस्ट हॉस्पिटल जोड़ों को बदलने की सर्जरी के प्रमुख केंद्रों में से एक है। अस्पताल में विशेषज्ञ प्रसिद्ध ऑर्थोपेडिक सर्जन की टीम के साथ यहां लगातार घुटनों को बदलने, कूल्हों को बदलने और कंधों को बदलने की सर्जरी को दुनिया के सर्वोत्तम केंद्रों के मुकाबले उच्च गुणवत्ता वाले परिणामों के साथ किया जा रहा है।