• 7/23/2018

मुख्य खबर

Share this news on

भगवान की भक्ति करने वाला कभी भी दुखी नही रहते: कृष्ण शास्त्री

Image

Manoj Sharma

/

7/12/2018 7:09:53 PM

चंडीगढ़, 12 जुलाई। सेक्टर 23 स्थित श्री महावीर मुनि मंदिर में ब्रह्मलीन श्री सतगुरू देव श्री श्री 108 श्री मुनि गौरवानंद गिरि जी महाराज की 31वीं पुन्य बरसी समारोह तथा श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के उपलक्ष्य में हजारों साधु संत और महात्माओं का आगमन हुआ। जिसका मुनि सभा के सदस्यगणों ने उनका स्वागत किया और साधु संतो और महात्माओं की सेवा में भी योगदान दिया। देश के विभिन्न राज्यों से आये सभी साधु, संत, महात्माओं को मंदिर के मुख्य पुजारी पं. दीप शर्मा ने तिलक लगा कर उनका अभिनंदन किया। इस दौरान उनके साथ श्री श्री 108 श्री पंचानंद गिरी जी महाराज, सभा के प्रधान दलीप चंद गुप्ता, उप प्रधान ओपी पाहवा, कार्यालय सचिव राम प्रकाश भी उपस्थित थे, जिन्होंने साधु, संत और महात्माओं को दक्षिणा, फल,वस्त्र वितरण की जिसके उपरांत साधू-संतो व महात्माओं को विशाल भंडारे का प्रसाद वितरण किया। बाद में आम जनता को भंडारा परोसा गया। इससे पूर्व प्रात: मंदिर परिसर से प्रभात फेरी का आयोजन किया गया जो कि इसी सेक्टर के विभिन्न स्थानों से होती हुई मंदिर में पहुंची जिसके बाद भव्य हवन किया गया। इस दौरान कथा व्यास द्वारा श्रीमद् भागवत कथा का श्रवण श्रद्धालुओं को करवाया। कथा व्यास अतुल कृष्ण शास्त्री ने इस अवसर पर श्रद्धालुओं को श्रीकृष्ण सुदामा चरित्र सुनाया और जिसमें उन्होंने बताया कि भगवान की भक्ति करने वाला कभी भी दुखी नही रहता, भगवान उनकी इच्छा पूरी करते है। इस दौरान उन्होंने बताया कि श्रीमद् भागवत कथा वही कथा है जो भगवान शंकरजी ने माता पार्वती को अमरनाथ में क था सुनाई थी।