• 11/18/2018

मुख्य खबर

Share this news on

आटोमोटिव इंजीनियरिंग टेलेंट में 13 से 14 जुलाई को होगा महा-मुकाबला

Image

Preeti

/

7/12/2018 7:14:07 PM

चंडीगढ़, 12 जुलाई। आटोमोटिव इंजीनियर्स की प्रोफेशनल सोसाइटी एसएई इंडिया और महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड ने वीरवार को एक संयुक्त प्रेस सम्मेलन में बहुप्रतिक्षित बाहा की 12वीं सीरीज़ के शुरुआती का एलान किया। इस साल भी महिंद्रा इस सीरिज के मुख्य प्रयोजन है। बाहा एस.ए.ई. इंडिया सीरिज के रिडिजाइंड वर्चुअल राउंड का आयोजन 13 और 14 जुलाई 2018 को चित्रा यूनिवर्सिटी के राजपुरा स्थित पंजाब कैंपस में होगा। देश भर के विभिन्न इंजीनियरिंग का 360 सेल्स इस प्रतियोगिता में आपका स्वागत है। करीब 1800 छात्र में से पांच पांच छात्र की टीमों को बनाया गया। इस प्रतियोगिता के लिए पूर्ण तैयारियों की जा रही हैं और छात्र अपने स्वयं के नए विचारों के साथ सक्रिय हो चले हैं। इन दो दिनों की प्रतियोगिता में रजिस्टर्ड टीमों को उनके तकनिकी ज्ञान और क्षमताओं को जांच जांच परख की तरफ वे मुख्य प्रतियोगिता में हिस्सा ले सकें। पिछला सालों की तरह वर्चुअल बाहा 2018 में सभी टीमे अपने डिजाइन का प्रजेंटेशन देगी उसके बाद उनके वाइवा होगा उनके चयन में बराबरी के नंबर। इस एवल्यूशन प्रक्रिया में प्रतिभागियों का रूल बुक और जनरल मैकेनिकल और आटोमोटिव इंजीनियरिंग के बारे में जानकारियों का परीक्षण होगा, वर्चुअल वाइवा में उनके परफॉर्मेंस के आधार पर सलेक्शन के बाद की घटनाक्रम टीमों को पंजाब और फिर नेशनल आटोमोटिंग टेस्टिंग और आर एंड डी इनफस्ट्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट ( नाट्राक्स फैसिलिटी एनएटीआरआईपी) पीथमपुरा, इंदौर में होने वाली मुख्य प्रतियोगिता के लिए चयन होगा। भारत में बाहा एस ए ई इंडिया ने अपनी शुरुआत सन 2007 में जब डॉक्टर डॉक्टरन गोयनका एस ए ई इंडिया के प्रेसीडेंट थे और डॉक्टर के सीओरा कनानेर थे। जब एस ई ई इंडिया मेगा इवेंट्स की तरफ बढ़ रहा था उस समय नेट्रिप ने मदद की के लिए अपना हाथ बढ़ाया और इंदौर के पास पीथपुर में इसके आयोजन में मदद की। यहाँ से आईआईटीआई। रोपड़ ने भी इसमें अपना सहयोग करने का एलान किया और बाहा एस ए ई इंडिया के चरण चरण का आयोजन किया। इस मौके पर बोलते हुए सुबोध मोर्य, हेरडिंग और पीआरआर बाहा एस.ए.ई.ई. इंडिया ने कहा कि प्रतियोगिता की 12 वें संस्करण का एलान करो मुझे मुझे बेहद प्रसन्नता है। इस तरह की प्रतियोगिताओं युवा इंजिनियर की प्रतिभा को दोहराना और उन्माद गणित, विज्ञान और इंजीनियरिंग के कौशल को ऊपर उठाने में मदद करते हैं। हमें इस बात की भी ख़ुशी है साल की साल साल इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने की संख्या में लगातार बढोत्री हो रही है। इस मौके पर चित्रा यूनिवर्सिटी की वाइस चांसलर डाक्टर मधु चित्रा ने कहा कि उन्हें इस बात की खुशी है कि पिछले सालों में बाहा भारत की लोकप्रियता लगातार बढ़ रही है और यह एक राष्ट्रीय कार्यक्रम बन गया है। संग्रहक कहा कि मैंने देखा कि किस तरह से छात्र इस इवेंट में हिस्सा लेने के लिए उत्साह दिखाते हैं। उन्होंने कहा कि यह प्रतिस्पर्धा उभरते हुए इंजीनियरों के लिए अपने कला कौशल को दिखाने के लिए सर्वश्रेष्ठ मंच प्रदान करता है और ऑटोमोबाइल उद्योग के लिए हमें पूरी तरह से प्रशिक्षित इंजीनियरों को तैयार करने के लिए मदद करता है। हम बाहा भारत प्रतियोगिता में अधिक से अधिक योगदान देने के लिए इच्छुक है और इसके समर्थन जारी रखने के लिए हमेशा तत्पर हैं। बाहा एस ए ई इंडिया प्रतियोगिता में छात्र एक सिंगल सीटर चार पहिया ऑल-टेवेन वाहन (एटीवी) गाडी की कल्पना कर उसका मूल डिज़ाइन और निर्माण और लागत का ब्यौरा तैयार करने के लिए प्रोत्साहित करता है जिसका एक्सपर्ट्स के पैनल द्वारा मूल्यांकन किया जाता है । अगली चरण में डेवलपमेंट टीमों को ऑल-टेवेन वाहन (एटीवी) विकसित करना होता है और इन वाहनों के दम-खम की परीक्षा पीठपुर में नेशनल ऑटोमोटिव टेस्टिंग और आर एंड डी इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट हैट्रिप के पांच किलोमीटर लम्बे ट्रैक पर अलग-अलग बाधाएं खड़ी कर लिया जाता है, वैसे इंजीनियरिंग शिक्षा द्वारा वाहनों को गति, मजबूती और अन्य वास्तविक पैमानों पर अच्छी तरह से जाख जाफाइनल मुकाबले इंदौर में 24 से 27 मार्च जनवरी 201 9 में रहने वाला उपरानत 28 और 2 9 जनवरी 201 9 को एच आर मीत का आयोजन किया जायेगा। 3 में 10 मार्च 201 9 एक और कार्यक्रम का आयोजन पंजाब में भी होगा। बाहा एस.ए.ई.ई. भारत का सबसे खास फीचर यह हर साल होने वाला नया थीम है। इस साल बाहा भारत 201 9 की थीम एडवेंचर रीलोडेड है। उदयामान इंजीनियरों की कड़ी मेहनत और लगन का सामना परीक्षण होता है जिसके लिए वे साल भर मेहनत करते हैं। इस प्रतियोगिता में छात्र न सिर्फ अनुभव के जरिए टेक्निकल नालेज में नई मंजिलों को पारित करने के लिए यह विकास के विकास में भी मदद मिलती है। निश्चित रूप से ये छात्र भारतीय आटो इंडस्ट्री को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाएंगे।