• 10/19/2018

मुख्य खबर

Share this news on

फोर्टिस हॉस्पिटल आर्गेनिक कम्युनिटी कम्पोस्टर्स स्थापित करने वाला ट्राईसिटी का पहला अस्पताल बना

Image

Preeti

/

9/22/2018 8:36:54 PM

मोहाली, 22 सितंबर। फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली, ट्राईसिटी का पहला ऐसा अस्पताल बन गया हे जिसने अपने गो ग्रीन अभियान को आगे बढ़ाते हुए आर्गेनिक कम्युनिटी कम्पोस्टर्स को स्थापित किया है। इनकी मदद से अस्पताल अपने सभी गीले अवशिष्ट (कूड़ा-कर्कट) को अपने स्तर पर निपटाते हुए उसे कम्पोस्ट में बदलेगा। फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली हमेशा सामाजिक चिंताओं और समाज को वापस देने में आम जनता को संवेदनशील बनाने में अग्रणी रही है। इस पहल को आगे बढ़ाने और प्रदूषण की खतरनाक दर के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए, अस्पताल ने अपनी नई ‘गो ग्रीन’ पहल के शुरू किया है। फोर्टिस हॉस्पिटल ने चंडीगढ़ डेली डंप के सहयोग से परियोजना शुरू की है और एएजीए स्थापित किया है, जो एक पर्यावरण अनुकूल, अभिनव और खूबसूरत उत्पाद है जो आपके सभी गीले कबाड़ को कम्पोस्ट में बदल सकता है। आशीष भाटिया, आर-सीओओ, एनएंडई, फोर्टिस हेल्थकेयर ने कहा कि ‘‘प्रदूषण के बढ़ते स्तरों को ध्यान में रखते हुए हमें उन उपायों को अपनाना होगा जो इसे नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। फोर्टिस हेल्थकेयर में, हम पर्यावरण के अनुकूल समाधानों को अपनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं ताकि आने वाले पीढ़ियों के लिए पर्यावरण को संरक्षित किया जा सके। चंडीगढ़ डेली डंप के साथ हमारा सहयोग इस दिशा में एक मजबूत कदम है।’’ उन्होंने कहा कि ‘‘कम्पोस्टिंग, मीथेन के उत्सर्जन को कम करके ग्लोबल वार्मिंग को रोकने में मदद करती है, जबकि जब आर्गेनिक कर्कट को जब किसी जगह पर भी भरा जाता है तो उसके डीकम्पोस्ट होने की प्रक्रिया में एक शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैस भी उत्पादित हो जाती है। इसके साथ-साथ, कम्पोस्ट से कई अन्य लाभ भी होते हैं, जिनमें मिट्टी के कटाव को नियंत्रित किया जा सकता है, भोजन में विटामिन और खनिज सामग्री में सुधार करता है, पौधों की पानी की मांग को कम करता है, मिट्टी के पीएच स्तर को संतुलित करता है, यह स्वस्थ पौधों को बढ़ावा देता है; और यह कीटनाशकों, कवक और उर्वरकों के उपयोग को कम करता है, जो पर्यावरण के लिए बेहद हानिकारक हैं।’’ श्री भाटिया ने कहा कि बेकार खाद्य पदार्थों को कम्पोस्टिंग से तैयार कर और खेतों और उद्यानों में इस खाद को डालने से, हमें मिट्टी के भंडार को पोषक तत्व लौटने की सुविधा मिलती है जो कि हमारे भोजन के लिए खाद्यान्न का उत्पादन करती है। हाल ही में आयोजित स्वच्छ आंत्रप्रेन्योयरशिप अवॉर्ड्स में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सम्मानित एएजीए, पर्यावरण-अनुकूल, अभिनव और खूबसूरत उत्पाद है जो कि खाद्य समेत सभी गीले रसोई कचरे को खाद में परिवर्तित कर सकता है। ज्योति अरोड़ा और दीक्षा सूरी, वेटमा सॉल्यूशंस, अपशिष्ट प्रबंधन समाधान प्रदान करते हुए, स्रोत पर गीले अपशिष्ट की देखभाल करने के बारे में जागरूकता पैदा करने के एक मिशन पर हैं। उनका प्रयास कचरे को लेकर सार्वजनिक मानसिकता को बदलना, लोगों को कचरे को अलग करने के लिए प्रशिक्षित करना, इसे काले सोने में बदलने के लिए रीसायकल करना आदि है जैसे कि पौष्टिक तत्वों से समृद्ध खाद और इसे वापस अपने स्रोत - पृथ्वी में वापस डालना है। पूरे भारत में 1500 से अधिक स्थापना के साथ, वे वायुरोधी कम्पोस्टिंग, एरोबिक कम्पोस्टिंग और पिट कम्पोस्टिंग के माध्यम से कचरे का प्रबंधन करने के लिए सस्ती, प्रभावी, प्राकृतिक और सरल समाधान, उत्पाद और सेवाएं प्रदान करते हैं। वे काफी विश्वास से महसूस करते हैं कि विकेन्द्रीकृत कचरा प्रबंधन का दृष्टिकोण शहर को 7-स्टार रेटिंग शहर में बदलने का माध्यम है। एएजीए आर्गेनिक कम्युनिटी कम्पोस्टर्स की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार है कि इससे खराब गंध यानि कोई दुर्गंध नहीं होती है, और किसी भी तरह से बिजली के उपयोग की कोई आवश्यकता नहीं होती है। उन्हें इनडोर या आउटडोर रखा जा सकता है और मौसम से सुरक्षित हैं। इस समाधान के साथ, अस्पताल स्रोत पर संसाधन में कचरे को कम्पोस्ट में बदल सकता है और दुनिया को एक सुरक्षित, स्वच्छ और सहज जगह बनाने की यात्रा शुरू की जा सकती है।